Yoga Facts In Hindi: Yoga Facts You Should Know Before Begin Exercising - कब और कैसे करें योग? शुरू करने से पहले जाने लें योग से जुड़े और भी तथ्य - Jansatta
ताज़ा खबर
 

कब और कैसे करें योग? शुरू करने से पहले जाने लें योग से जुड़े और भी तथ्य

योग को सिर्फ आसन की वजह से जाना जाता है लेकिन यह शरीर, दिमाग और सांसों के तालमेल से किया जाने वाला अभ्यास है। यह शरीर को लचीला बनाता है।

निरोगी काया के उद्देश्यों को साधने वाले योग को लेकर आजकल विश्व भर में काफी उत्साह है।

निरोगी काया के उद्देश्यों को साधने वाले योग को लेकर आजकल विश्व भर में काफी उत्साह है। 21 जून को विश्व योग दिवस की तिथि निश्चित किए जाने के बाद दुनिया भर में योग को लेकर लोगों की उत्सुकताएं बढ़ी हैं। बहुत से लोगों सेहतमंद जीवन के लिए योग को अपनाया है। कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके मन में योग को लेकर बहुत सारे सवाल हैं। ऐसे लोग टीवी, इंटरनेट आदि की सहायता से योगाभ्यास कर तो लेते हैं लेकिन उनके मन में योग को लेकर जो भ्रम होता है उसका निदान नहीं मिल पाता। आज हम ऐसे लोगों के मन में उठने वाले सवालों को जानने की कोशिश करेंगे।

वर्कआउट बेहतर है या योग – योग को सिर्फ आसन की वजह से जाना जाता है लेकिन यह शरीर, दिमाग और सांसों के तालमेल से किया जाने वाला अभ्यास है। यह शरीर को लचीला बनाता है। मानसिक शांति, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और शरीर को ऊर्जान्वित करने में योग हमारी मदद करता है। दूसरी ओर जिम में हम खूब पसीना बहाते हैं ताकि हमारा शरीर फिट रहे। वर्कआउट करना एक शारीरिक अभ्यास है जबकि योग में शरीर, मन और सांस तीनों की भागीदारी होती है।

योग का सही समय क्या है – यूं तो योग को किसी भी वक्त किया जा सकता है लेकिन सुबह के समय सूर्योदय के पश्चात योग करना ज्यादा सही होता है। सूर्योदय के दो घंटे बाद तक का समय योग के लिए सबसे बेहतर होता है। खाना खाने के तुरंत बाद कभी योग नहीं करना चाहिए।

योग के लिए जगह कैसा हो- खुली और हवादार जगह योग के लिए सबसे बेहतर होती हैं। हवादार कमरे में भी योग किया जा सकता है। प्रदूषण या दुर्गंधित जगहों पर योग करने से बचें। साथ ही योग करते समय ढीले और आरामदेह कपड़े पहनें।

मासिक धर्म या गर्भावस्था में योग सही है – मासिक धर्म या फिर प्रेग्नेंसी में योग करने में कोई परेशानी नहीं है। बशर्ते इस दौरान महिलाओं को उल्टे होकर आसन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से टॉक्सिन्स के दिमाग के फैलोपियन ट्यूब्स में पहुंचने की आशंका होती है। प्रेग्नेंसी में योग करते हुए किसी भी तरह का दर्द उठने पर या चोट लगने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

योग के बाद नहाना – योग के बाद शरीर में ऊर्जा उत्पन्न होती है और योग करने के तुरंत बाद नहाने से यह ऊर्जा कम हो जाती है। इसलिए योग करने के कम से कम 20-25 मिनट बाद ही नहाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App