ताज़ा खबर
 

इन 4 योगासन से आप दूर कर सकते हैं अपनी माइग्रेन की परेशानी

Yoga asanas to relieve migraine in hindi: माइग्रेन की समस्या को दूर करने में ये योगासन आपकी काफी मदद कर सकते हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (Source: Dreamstime)

अगर आप माइग्रेन की समस्या से जूझ रहे हैं और कई तरह के इलाज से भी आपको कोई फायदा नहीं हुआ है, तो समय आ गया है आप योग का सहारा लें। योग से आप अपनी कई बीमारियों को ठीक कर सकते हैं। ऐसी ही एक बड़ी बीमारी माइग्रेन से भी आप योगा की मदद से निजात पा सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे 4 योगासन के बारे में जिनसे आप अपनी माइग्रेन की समस्या को दूर कर सकते हैं।

हस्तपदासन- यह आसन करने से तंत्रिका तंत्र स्वस्था होता है और यह माइग्रेन की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए काफी लाभदायक है। इसे करने के लिए आप पहले सीधे खड़े हो जाएं और फिर हाथों को ऊपर उठा लें। हाथ पूरे खोले। इसके बाद नीचे की ओर झुकते हुए हाथों की पहली उंगलियों को दोनों पैरों की उंगलियों के बीच दबा लें। इसके बाद घुटनों को मोड़ें और अपने सिर को जितना संभव हो घुटनों से मिलाने की कोशिश करें। कुछ देर इसी पोजिशन में रुकें और फिर प्रक्रिया को दोहराते हुए सीधे हो जाएं।

देखें वीडियो (Source: Yourube/Art of Living)

सेतु बांधासन- इस आसन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर सीधे लेट जाएं। इसके बाद पहले अपना दाहिना पैर मोड़ें और फिर बायां पैर मोड़ें। दोनों पैरों को अपने कुल्हों से मिलाएं। इसके लिए आप अपने हाथों की मदद ले सकते हैं। पैर मिल जाने के बाद अपने पेट को ऊपर की तरफ जिनता संभव हो उतना उठाएं और फिर इसी पोजिशन में कुछ देर बने रहें। आखिर में पेट को नीचे लें आएं। इस आसन को 5-6 बार करना फायदेमंद होगा। वहीं ध्यान रखें की आपकी गर्दन पर इससे जोर न पड़े।

बालासन- यह आसन आपको काफी रिलैक्सिंग पोजिशन देता है और इसे करना काफी आसान है। इसे करने के लिए जमीन पर अपनी ऐड़ियों के बल पर बैठ जाएं और शरीर के ऊपरी हिस्से का वजन अपनी जंघाओं पर डाल दें। इसके बाद आगे की ओर झुकते हुए सिर को जमीन पर लगाएं फिर हाथों को सिर के ऊपर से निकालते हुए, हथेलियों को ज़मीन पर लगा दें। इसके बाद अपने हिप्स को ऐड़ियों की ओर ले जाएं और इस अवस्था में 2 मिनट तक रहने का प्रयास करें।

देखें वीडियो (Source: Yourube/Art of Living)

मर्जरासन- गर्दन के दर्द से राहत पाने के लिए यह भी एक बढ़िया आसन है। इससे रीढ़ की हड्डी को फ्लेक्सिबल भी बढ़ती है। इसे करने के लिए पहले घुटनों और हथेलियों के बल पर जमीन पर बैठ जाएं और उन पर अपने ऊपरी शरीर का भार डाल दें। इसके बाद अपने पेट को जमीन की तरफ जहां तक संभव हो लेकर जाएं और गर्दन को ऊपर की तरफ जितना ऊंचा उठा सकते हैं उठाएं और इसी मुद्रा में कुछ समय रुकने की कोशिश करें।ऐसे ही दूसरी मुद्रा के लिए पेट को ऊपर की तरफ उठाएं और गर्दन को अंदर की तरफ लाएं इसी मुद्रा में कुछ समय रुकने की कोशिश करें।

देखें वीडियो (Source: Yourube/Art of Living)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App