ताज़ा खबर
 

कमरदर्द, मोटापा और नींद ना आना जैसी दिक्कतों से निजात दिला सकते हैं यह योग आसन

अगर आपके शरीर में भी पनप रही है बीमारियां, तो आज से ही इन योग आसन को अपनाएं
यह फोटो प्रतीक के रूप में प्रयोग की गई है

आजकल की व्यस्त जिन्दगी में हमारा खाना-पीना रहन-सहन ऐसा हो गया हैं कि हम बाजार से पैकेट बंद चीजों या फास्ट- फूड लाते है और उनका सेवन करते है। पैकेट बंद चीजें हों या फास्ट-फूड हो इनका अधिक सेवन हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं है जिसकी वजह से हमें बहुत सी बीमारियां लग जाती हैं या हमारा वजन बढ़ने लगता है। ऐसे में योग के माध्यम से हम स्वस्थ रह सकते है। रोज योग करने से आप तनाव मुक्त भी रह सकते है और सुंदर भी दिख सकते है इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे योग आसन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी मदद से आप अपने शरीर को स्वस्थ रख पाएंगे और साथ ही खुद को कई बीमारियों से दूर भी रख सकते हैं।

त्रिकोणासन – यदि आप अपने पेट की चर्बी को कम करना चाहते है तो आप त्रिकोण आसन करके ऐसा कर सकते है।
त्रिकोणासन की विधि : सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं उसके बाद अपने पैरों को एक मीटर की दूरी तक फैलाएं और फिर अंदर की ओर सांस भरें। अपनी दोनों बाजुओं को कंधे की सीध में ले जाएं फिर कमर से आगे की ओर झुकें। इसी बीच सांस छोड़ें।

धनुरासन – अगर आप भी रीढ़ की हड्डी को लचीला, मजबूत और शरीर को सुडौल बनाना चाहते है तो आप धनुरासन की करको ऐसा कर सकते है।
धनुरासन करने की विधि: सबसे पहले एक साफ और बराबर जगह पर पेट के बल लेट जाएं और अपनी हथेलियों को जमीन पर रखकर अपने मुंह को जमीन से ऊपर की ओर उठाएं। इसके बाद अब अपने दोनों हाथों को जमीन से हटा लीजिये। अब आपका शरीर आपके पेट के सहारे जमीन पर टिका हैं। अब दोनों पैरों को भी जमीन से उठा लीजिये और अपने दोनों हाथों से अपने पैरों को पकड़ने का प्रयास करें। जब आप इस क्रिया को करें तो अपने दोनों घुटनों को साथ में जोड़ने की कोशिश करें।

हलासन – हलासन की मदद से आप सिरदर्द नींद न आने की समस्या से निजात पा सकते है। इस आसन को करने से मधुमेह के रोगियों को फायदा होता है। हलासन खाना सही पचाता है।
हलासन करने की विधि : किसी साफ व बराबर जगह पर कपड़ा बिछा कर पीठ के बल लेट जाएं और दोनों पैर एक दूसरे से मिले हुए हों और दोनों हाथों की हथेलियां जमीन पर और कमर के पास लगी हुई हों। मुंह ऊपर आसमान की तरफ और आखें बंद हो। अब धीरे-धीरे दोनों पैरों को ऊपर की ओर उठाएं। ऐसा करते समय पेट को सिकोड़ें और सांस को अंदर लें। दोनों पैरों को सिर के पीछे लगाने कि कोशिश करें। पीठ और कमर को पैरों के साथ पीछे की तरफ मोड़ने के लिए हाथों का सहारा लें। अब धीरे-धीरे अपनी क्षमता के अनुसार ही पैरों को मोंड़ें और थोड़ा रूकने का प्रयास करें। घुटनें मुड़ें नहीं चाहिए इस बात का ध्यान रखें। अब वापस अपनी पहली अवस्था में आ जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.