ताज़ा खबर
 

रात में नहीं आती नींद तो रोज करें ये तीन आसन, मिल सकता है अनिद्रा से छुटकारा

आज की जीवनशैली में अनिद्रा एक गंभीर समस्या है। इसमें व्यक्ति को नींद आने, अच्छी नींद लेने तथा सोए रहने में काफी दिक्कत होती है।

प्रतीकात्मक चित्र

आज की जीवनशैली में अनिद्रा एक गंभीर समस्या है। इसमें व्यक्ति को नींद आने, अच्छी नींद लेने तथा सोए रहने में काफी दिक्कत होती है। इस बीमारी से ग्रस्त लोग थकान, ऊर्जा में कमी, एकाग्रता में कमी, मूड खराब होना आदि दिक्कतों से दो-चार होते हैं। इससे बचने के लिए आप योगा का सहारा ले सकते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे आसनों के बारे में बताने वाले हैं जो अनिद्रा की समस्या से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।

विपरीत करणी आसन – सबसे पहले लेटकर एड़ी और पंजों को आपस में मिला लें। दोनों हथेलियों को धरती की ओर रखें। पंजों को टाइट कर दोनों पांवों को धीरे धीरे ऊपर उठाना शुरू कर दें। दोनों हथेलियों को नितंबों पर लगाकर उन्हें भी ऊपर की ओर उठाएं। कंधों से जंघा तक 45 डिग्री का कोण बनाएं। पंजों को तान दें और सांस को सामान्य कर लें। फिर धीरे धीरे पूर्वावस्था में लौट आएं और पंजो को धीरे से जमीन पर टिका दें।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15445 MRP ₹ 16999 -9%
    ₹0 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32GB Venom Black
    ₹ 8925 MRP ₹ 11999 -26%
    ₹446 Cashback

पश्चिमोत्तासन – दिमाग को शांत तथा आराम करने के लिए इस आसन को किया जाता है। इसे करने के लिए अपने पैरों को सीधा जमीन पर फैलाकर बैठ जाएं। अब अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएँ तथा धीरे-धीरे आगे की ओर झुकें। अपने हाथों की उँगलियों से अपने पैरों की उँगलियों को छूने का प्रयास करें तथा अपने सिर को घुटनों से लगाने का प्रयास करें। ऐसा भी हो सकता है कि आप अपने पैरों की उँगलियों को न छू पायें लेकिन धीरे-धीरे अभ्यास के द्वारा इसमें सुधार होता जाएगा।

बालासन – यह आसन आपको काफी रिलैक्सिंग पोजिशन देता है और इसे करना भी आसान है। इसे करने के लिए जमीन पर अपनी ऐड़ियों के बल पर बैठ जाएं और शरीर के ऊपरी हिस्से का वजन अपनी जंघाओं पर डाल दें। इसके बाद आगे की ओर झुकते हुए सिर को जमीन पर लगाएं फिर हाथों को सिर के ऊपर से निकालते हुए हथेलियों को ज़मीन पर लगा दें। इसके बाद अपने हिप्स को ऐड़ियों की ओर ले जाएं और इस अवस्था में 2 मिनट तक रहने का प्रयास करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App