ताज़ा खबर
 

मोटापा करना है दूर तो रोजाना करें ये आसन

बदलती जीवनशैली ने लोगों के लिए शारीरिक श्रम करने के मौके कम कर दिए हैं। ऐसे में वजन बढ़ने की समस्या का उपजना कोई आश्चर्य नहीं है।

healthy obesity, Disadvantages Of healthy obesity, cardiovascular disease, Harms Of cardiovascular disease, cardiovascular disease Due To Obesity, cardiovascular disease During Obesity, Obesity Cause cardiovascular disease, healthy obesity is a myth, Health News In Hindi, Lifestyle News In Hindi, Jansattaप्रतीकात्मक चित्र

मोटापा आज के समय की एक आम बीमारी है। बदलती जीवनशैली ने लोगों के लिए शारीरिक श्रम करने के मौके कम कर दिए हैं। ऐसे में वजन बढ़ने की समस्या का उपजना कोई आश्चर्य नहीं है। शरीर में एकत्र अतिरिक्त फैट शारीरिक श्रम की वजह से बर्न होती रहती थी। अह ज्यादातर लोग ऑफिस में एक जगह बैठकर काम करने को मजबूर हैं। ऐसे में मोटापा बढ़ना स्वाभाविक है। इसके अलावा ज्यादा खाना खाने से, थायराइड की प्राब्लम होने की वजह से और वंशानुगत भी इस समस्या के जन्म लेने का खतरा बना रहता है। मोटापे की वजह से डाइबिटीज, आर्थराइटिस और दिल संबंधी बीमारियों के भी खतरे काफी बढ़ जाते हैं। ऐसे में योग और प्राणायाम से मोटापा को पूर्णतः खत्म किया जा सकता है। बाबा रामदेव इसके लिए नियमित रूप से प्राणायाम और कुछ योग करने का सुझाव देते हैं। आइए जानते हैं कि कौन सा योग मोटापे को समाप्त करने में हमारी मदद कर सकता है।

प्राणायाम  – बाबा रामदेव के अनुसार चारों प्राणायाम अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भस्त्रिका और उद्गीथ मोटापे को खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनमें कपालभाति मोटापे के लिए सबसे बेहतर प्राणायाम है। इसे मोटापे का दुश्मन भी कहा जाता है। इसे नियमित रूप से 5-15 मिनट तक करने से मोटापे की समस्या से हमेशा-हमेशा के लिए छुटकारा मिल सकता है। कपालभाति करने के लिए सबसे पहले सिद्धासन या पद्मासन में बैठ जाएं। अब सांस को झटके के साथ बाहर छोड़ें। 5-15 मिनट तक इस प्रक्रिया को दुहराएं। हर्ट या बीपी के मरीजों के लिए, अल्सर, कमरदर्द ले पीड़ित लोगों के लिए कपालभाति करना वर्जित है।

इसके अलावा कुछ छोटे-मोटे व्यायाम भी मोटापे की समस्या के लिए बड़े काम के हो सकते हैं।
कटि सौंदर्यासन – कमर की चर्बी को दूर करने के लिए यह आसन बहुत उपयोगी है। इसे करने के लिए दोनों पैरों को सामने की ओर फैलाकर बैठ जाएं। अब हाथों को फैलाते हुए बाएं हाथ से दाएं पैर के पंजों को छूने की कोशिश करें। यही प्रक्रिया दूसरे हाथ के साथ भी करें।

पशुविश्रामासन – दोनों पैरों खोलकर बैठ जाएं। अब बाएं पैर को बाहर से इस तरह मोड़ें कि पंजा बाहर की ओर फैला हुआ हो। अब दहिने पैर को बाएं पैर के जंघा से लगाएं। सांस अंदर भरते हुए दोनों हाथों को ऊपर उठाएं और सांस छोड़ते हुए पूरे शरीर के साथ नीचे ले जाएं। ऐसा करते हुए माथा जमीन से छूना चाहिए। यह क्रिया 5 से शुरु करते हुए 50 की संख्या तक पहुंचा सकते हैं। अब पुनः यही प्रक्रिया दाहिने पैर को मोड़कर करें।

कोणासन – इसे करने के लिए सबसे पहले अपनी झगह पर सीधा खड़े हो जाएं। दोनों पैर बराबर में खोल लें। अब दाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को छुएं। फिर बाएं हाथ से दाएं पैर के अंगूठे को छुएं। धीरे-धीरे एक गति बढ़ाते रहें।

तिर्यक ताड़ासन – शरीर के पार्श्व भागों की चर्बी को घटाने के लिए यह आसन काफी लाभदायक है। इसे करने के लिए खड़े होकर पैरों को थोड़ा खोल लें। अब दोनों हाथ ऊपर ले जाकर बांध लें। फिर कमर को मोड़ते हुए साइड में जितना झुक सकते हों उतना झुकें। यही क्रिया दूसरी ओर भी दुहराएं।

ये योगासन करके आप मोटापे से निश्चित रूप से छुटकारा पा सकते हैं।

Next Stories
1 वीडियोः दफ्तर में बैठे-बैठे ही कर सकते है बाबा रामदेव के ये योग आसन
2 बालों की हर समस्या के लिए फायदेमंद हैं ये आसन
3 योग से दूर होगी प्रेग्नेंसी की हर तकलीफ, जानें कैसे
यह पढ़ा क्या?
X