ताज़ा खबर
 

शरीर के फंक्शन करने के लिए जरूरी है स्वस्थ लीवर, जानिए- इसके लिए कौनसा योगासन है बेहतर

लीवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि के रुप में जाना जाने वाला लीवर शरीर में पाचन क्रिया के लिए सबसे जरूरी अंग है।

Author नई दिल्ली | Published on: July 18, 2017 7:46 PM
धनुरासन

लीवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि के रुप में जाना जाने वाला लीवर शरीर में पाचन क्रिया के लिए सबसे जरूरी अंग है। बहुत ज्यादा शराब पीने की वजह से, धूम्रपान की वजह से और ज्यादा नमक या खट्टा खाने से लीवर की समस्या आपको परेशान कर सकती है। लीवर की समस्या से निजात पाने के लिए आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारे में बताएंगे जिसे नियमित अपने अभ्यास में लाकर आप न सिर्फ लीवर की तमाम परेशानियों से बच सकते हैं बल्कि लीवर को और मजबूत और निरोग बनाकर लीवर संबंधी बीमारियों की संभावनाओं को भी खत्म कर सकते हैं।

फैटी लीवर से बचने के लिए धनुरासन एक बेहतर उपाय है। इस तरह के आसन में आपको उल्टा लेटना होता है। उल्टा लेटकर अपने पैरों को पकड़ना होता है। अपनी सुविधानुसार आप जितनी देर तक इसे कर सकते हैं उतनी देर करते रहिए। गोमुख आसन करने से लीवर के विषैले पदार्थ बाहर निकलते हैं तथा यह आसन लीवर सिरोसिस के लिए बेहतर माना जाता है। इसमें सबसे पहले पालथी मारकर बैठ जाएं फिर बाएं पैर को मोड़कर तलवे को दाएं हिप्स के पास पीछे ले जाएं और दाएं पैर को मोड़कर तलवे को बाएं हिप्स के पीछे ले जाएं। दोनों हाथों को तलवों पर रखें। अब बाईं कोहनी को मोड़कर हाथ पीछे ले जाएं और दाईं कोहनी को मोड़कर हाथ पीछे ले जाएं। अब दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में जोड़ें। दोनों हाथों को हल्के-हल्के अपनी ओर खीचें।

कपालभांति प्राणायाम कई रोगों को ठीक करने में सहायक होते हैं। इसमें सबसे पहले आप सिद्धासन, वज्रासन या फिर पद्मासन में बैठ जाएं, गहरी सांस लें। ध्यान रहे, सांस नाक से ही निकालें। एक बार सांस लेने में कुल 5-10 सेकंड लगना चाहिए और आपका पूरा ध्यान आपकी सांसों पर होना चाहिए। रोजाना 15 मिनट तक इस आसन को करने से आपके लीवर की कार्यक्षमता सुधरती है। लीवर के लिए नौकासन भी काफी फायदेमंद होता है। इसमें शवासन में लेटकर अपनी एड़ी और पंजे को आपस में और अपने हाथों को कमर से मिला लें। इसके बाद दोनों पैरों, गर्दन और हाथों को धीरे-धीरे उठाएं। तकरीबन 30 सेकंड तक ऐसे ही रहने के बाद धीरे-धीरे शवासन की अवस्था में लौट जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें ये चार आसान योगासन
2 कमरदर्द, मोटापा और नींद ना आना जैसी दिक्कतों से निजात दिला सकते हैं यह योग आसन
जस्‍ट नाउ
X