ताज़ा खबर
 

इन योगासानों का अभ्यास माहवारी के दर्द से दिलाएगा मुक्ति

माहवारी के दर्द से निपटने के लिए योगासन सबसे बेहतरीन प्राकृतिक उपचार है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है
धनुरासन

मासिक धर्म महिलाओं में होने वाली एक प्राकृतिक प्रक्रिया का हिस्सा है। इस दौरान उन्हें काफी दर्द होता है, जिसकी वजह से चिड़चिड़ापन, अवसाद, अनिद्रा और थकान की शिकायत भी होती है। माहवारी के दर्द से निपटने के लिए योगासन सबसे बेहतरीन प्राकृतिक उपचार है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और यह काफी हद तक माहवारी से उठने वाले दर्द से छुटकारा दिला देता है। आज हम आपको कुछ ऐसे योगासनों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका इस्तेमाल आप माहवारी के दौरान कर सकती हैं।

ऊष्ट्रासन – इस आसन को करते हुए आकृति ऊंट की तरह हो जाती है, इसलिए इसे ऊष्ट्रासन कहते हैं। ऊष्ट्रासन के लिए सबसे पहले घुटनों के बल बैठ जाएं और पीछे की तरफ आराम से झुकते हुए अपने दोनों हाथों से पैरों की एड़ियों को पकड़ें। अब अपने सिर को भी पीछे की तरफ झुकाएं। इस स्थिति में 20-25 सेकेंड तक रहते हुए सामान्‍य स्थिति में लौट आएं। इस आसन को करने से कमरदर्द, तनाव, थकान आदि भी दूर हो जाते हैं।

मत्स्यासन – इस आसन में शरीर की आकृति मछली जैसी हो जाती है। माहवारी के दर्द से छुटकारा दिलाने के लिए यह आसन काफी लाभदायक है। इसे करने के लिए सबसे पहले पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। फिर आराम से पीछे की तरफ लेट जाएं। लेटते समय दोनों घुटने जमीन से ही सटे रहें। फिर दोनों हाथों की सहायता से सिर को जमीन पर टिकाएं। उसके बाद बाएं पैर के अंगूठे और दोनों कोहनियों को जमीन से लगाए रखें। इस स्थिति में 10 सेकेंड तक रहें फिर सामान्‍य स्थिति में आयें।

धनुरासन – इस आसन को करने के लिए सबसे पहले आप पहले पेट के बल लेट जायें। इस स्थिति में आपके हाथ नीचे की ओर होने चाहिये। धीरे-धीरे अपने पैर और सिर व कंधे को ऊपर की तरफ उठायें। सही स्थिति आने पर अपने हाथों से पैरों को कस कर पकड़ लें। इस स्थिति में करीब 10 सेकेंड तक बने रहें। इस आसन से मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से काफी राहत मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.