शिल्पा शेट्टी ने कंधे और गर्दन की मजबूती के लिए बताए 4 योगासन, पाचनशक्ति में भी मिलेगा लाभ

जीवन में स्वस्थ रहने के लिए योग किस हद तक जरुरी है और योग के इसी फायदे (health benefits of yoga) को बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है।

Shilpa Shetty told 4 yogasanas for strength of shoulders and neck
46 वर्षीय शिल्पा शेट्टी का योग के प्रति बेहद लगाव है। (Photo- Shilpa Shetty's Instagram Account)

स्वस्थ जीवन जीना हर किसी का पहला उद्देश्य होता है। ऐसे में हेल्दी लाइफ और फिटनेस के लिए लोग योगासन की मदद लेते हैं। शरीर की अच्छी स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के लिए योग से बेहतर कुछ नहीं है। जीवन में स्वस्थ रहने के लिए योग किस हद तक जरुरी है और योग के इसी फायदे (health benefits of yoga) को बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है। योगासनों की एक श्रृंखला को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा कि इन योगाभ्यासों को स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के तौर पर किया जा सकता है।

शिल्पा शेट्टी अपनी हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए जानी जाती हैं। 46 वर्षीय शिल्पा शेट्टी का योग के प्रति बेहद लगाव है, ऐसे में उन्होंने अपनी पोस्ट में जिन योगासनों का अभ्यास किया उनमें- विपरित शलभासन (Viparita Shalabasana), अर्ध शलभासन (Ardha Shalabasana), धनुरासन ( Dhanurasana) और बलासन (Balasana) शामिल हैं। इन आसनों को करते हुए उन्होंने बताया कि यह सभी योगासन पीठ, गर्दन, कन्धों के साथ रीढ़ की हड्डी (spine) की मज़बूती बढ़ाते हैं।

शिल्पा शेट्टी ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘इन आसनों के माध्यम से पीठ और रीढ़ की हड्डी की स्ट्रेचिंग के साथ उनकी मजबूती को बढ़ाने में मदद मिलती है। यह आसन ग्लूट्स (नितंब) को टोन करने में मदद करते हैं। साथ ही पाचनशक्ति भी ठीक रहती है। इन योगाभ्यासों से जांघों और पैरों की मज़बूती बढ़ती है। शरीर को इन योगासनों के अभ्यास से ना केवल आराम मिलता है बल्कि, लोग तरोंताजा भी महसूस करते हैं।’ इसके साथ ही योगासन अभ्यास की सलाह देते हुए शिल्पा ने कहा कि खुद को मज़बूत बनाना चाहते हैं, तो इन आसनों को जरुर करें।

स्ट्रेचिंग करना क्यों आवश्यक है और यह कैसे फायदा पहुंचाती है?

स्ट्रेचिंग करने से शरीर का लचीलापन बढ़ता है और जोड़ों को पूरा घूमने के काबिल बनाता है। शरीर का लचीलापन और गति बढ़ाने से लेकर चोट से बचाने के लिए स्ट्रेचिंग बहुत जरूरी है। स्ट्रेचिंग को अपनी दिनचर्या में शामिल कर उसको रेग्युलर वर्कआउट करना चाहिए। यदि नियमित रूप से आप जिम जाते हैं, उसके बाद भी आपको स्ट्रेचिंग करनी चाहिए, इससे शरीर के मांसपेशियों को आराम मिलता है। स्ट्रेचिंग करने से मांसपेशियां टाइट बनती हैं जिससे एक्सरसाइज के दौरान तकलीफ और चोट लगने का रिस्क कम हो जाता है। इसके साथ ही हैम्स्ट्रिंग, हिप्स और पेल्विक एरिया में मसल्स की कार्यक्षमता बढ़ती है और गर्दन और कमर को फायदा पहुंचता है।

पढें योग और मेडिटेशन समाचार (Yogameditationhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
लौकी खाइए, स्वस्थ रहिएprofit of bottle gourd, health news, green vegitable
अपडेट