ताज़ा खबर
 

अधोमुख शवासन: बैक पेन की तकलीफ से छुटकारा दिला सकता है योग का ये आसन

योग कई असाध्य बीमारियों का इलाज है। हाल के दिनों में विश्व स्तर पर योग का प्रसार बढ़ा है और पूरी दुनिया में योग के माध्यम से निरोग होने के प्रयास हो रहे हैं।

पीठ दर्द में आराम दिलाने में यह आसन बेहद लाभकारी है।

योग कई असाध्य बीमारियों का इलाज है। हाल के दिनों में विश्व स्तर पर योग का प्रसार बढ़ा है और पूरी दुनिया में योग के माध्यम से निरोग होने के प्रयास हो रहे हैं। तकरीबन हर तरह की बीमारी का इलाज योग के पास है। इससे शरीर निरोग तो होता ही है, साथ ही बेहतरीन फिटनेस और शारीरिक लचीलापन का लाभ भी होता है। आज हम अधोमुख शवासन के बारे में आपको बताने वाले हैं। यह आसन पीठ के दर्द से परेशान लोगों के लिए खासतौर पर उपयोगी है। इसके अलावा इसे करने से शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। शुरू में अधोमुख शवासन करना थोड़ा कठिन होता है लेकिन नियमित अभ्यास से इसे सरल बनाया जा सकता है। आइए, जानते हैं कि इसे कैसे करते हैं –

कैसे करें अधोमुख श्वानासन – इसे करने के लिए सबसे पहले अपने पेट के बल पर लेट जाएं और हाथों को अपने कमर की सीध में रखें। पांवों और सिर को बिल्‍कुल सीधा रखें। अब गहरी सांस लें और अपने शरीर को आगे की ओर बढ़ाएं। कंधें, हाथों और कलाई को एक रेखा में करें। अब अपनी कोहनी का सपोर्ट लेते हुए अपनी कलाई को जमीन पर रखें और सुनिश्चित कर लें कि आपके कंधें और कोहनी एक ही सीध में हैं। साथ ही, आपकी कलाई भी उसी सीध में होनी चाहिए। अब अपनी गर्दन और कंधों को दृढ़ रखें। अपना संतुलन बनाएं। अपनी हथेलियों को प्रार्थना की स्थिति में लाएं। एड़ियों पर खड़े हो जाएं। इसके बाद अपने शरीर का संतुलन बनाएं और अपनी जांघों को बिल्‍कुल सीधा और मजबूत रखें। आपकी गर्दन और रीढ़ की हड्डी एक ही दिशा में रहनी चाहिए। अपने मन में 5 से 10 तक गिनती गिनें और अपना संतुलन बनाएं रखें। अब सांस छोडें। बैठ जाएं और आराम करें।

क्या होते हैं फायदे – मेरूदंड को सीधा रखने में यह आसन बेहद उपयोगी है। यह शरीर में ठीक ढंग से खिंचाव उत्पन्न करता है जिससे लोअर बैक की मांसपेशियों पर इसका प्रभाव पड़ता है। पीठ दर्द में आराम दिलाने में यह आसन बेहद लाभकारी है। इसके अलावा इसे करने से पैरों की मांसपेशियों का तनाव कम होता है और उनमें पर्याप्त लचक आती है।

https://www.jansatta.com/lifestyle/love-relationship-hindi/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App