ताज़ा खबर
 

‘पता नहीं क्या सुनाया, लेकिन लोग बहुत खुश थे’- जब कुमार विश्वास के साथ विदेश में हुआ था मजेदार वाकया

कुमार विश्वास (Kumar Vishvas) कहते हैं, “हिंदी में दारिद्र- चिंतन (गरीब होना मतलब महान होना) बहुत है। पहले वो एक बार कवि को भूखा मर जाने देंगे, बाद में उसके उपर बहस करेंगे की बड़े अच्छे थे, भूखे मर गए।

कुमार विश्वास (फाइल फोटो)

डॉ. कुमार विश्वास (Kumar Vishvas) युवा दिलों की धड़कन कहे जाते हैं। उनकी कविता और शेरो-शायरी सुनने के लिए श्रोताओं की भीड़ में बड़ी तादाद में युवा भी होते हैं। देश-विदेश में कविता सुनाने वाले कुमार विश्वास को कई बार अनूठे अनुभवों का सामना भी करना पड़ता है। ऐसा ही एक रोचक वाकया तब हुआ था, जब वे कनाडा में कविता पाठ करने गए थे। वहां के अप्रवासी मंत्री जैसन कैनी कुमार विश्वास के कविता पाठ के दौरान पूरे वक्त मौजूद रहे। बाद में उन्होंने कहा कि ‘उन्हें तो कुछ समझ में ही नहीं आया, लेकिन लोग बहुत खुश थे।’

‘आप की अदालत’ के एक पुराने शो ( फरवरी 2015) में कुमार विश्वास से रजत शर्मा ये कहते हैं कि आपने कविता को कंसर्ट बना दिया। इस पर कुमार विश्वास कहते हैं, “कविता का कंसर्ट बनना एक अच्छी बात है। मैं 3 साल पहले कनाडा गया था। तब वहां के अप्रवासी मंत्री जैसन कैनी मेरे शो में आए। उनको हिंदी नहीं आती थी। वो शो में मुख्य अतिथि थे, सामने बैठ गए। दो-ढाई घंटे तक सुनते रहे, उन्हें कुछ समझ में नहीं आया।”

कुमार विश्वास (Kumar Vishvas) आगे कहते हैं कि लौटने के बाद जैसन कैनी ने ट्वीट किया कि हिंदी का एक पोएट आया था, उसने पता नहीं क्या सुनाया पर लोग बहुत खुश थे। इसके बाद कनाडा के अप्रवासी मंत्री ने हिंदी को कनाडा की प्राथमिक कक्षाओं में एक अनिवार्य भाषा के रूप में स्वीकृत करवा दिया। आपको बता दें कि कुमार विश्वास की गिनती महंगे कवियों में होती है। उनके रहन-सहन पर कई बार सवाल भी किया जाता है। रजत शर्मा ने भी उनसे ये सवाल पूछा कि हम तो उन कवियों को जानते थे जो साधारण कुर्ता पायजामा पहनते थे, और आप तो डिजाइनर शूट वाले कवि बन गए।

इसके जवाब में कुमार विश्वास (Kumar Vishvas) कहते हैं, “हिंदी में दारिद्र- चिंतन (गरीब होना मतलब महान होना) बहुत है। पहले वो एक बार कवि को भूखा मर जाने देंगे, बाद में उसके उपर बहस करेंगे की बड़े अच्छे थे, भूखे मर गए। मेरी लड़ाई उस बात से थी जिसमें अच्छे कवियों को भी उनके काम का उचित मान नहीं मिला। और इस लड़ाई में युवाओं ने मेरा बहुत साथ भी दिया।”

आपको बता दें कि कुमार विश्वास अपनी कविताओं के साथ-साथ शानों-शौकत वाली लाइफस्टाइल के लिए भी जाने जाते हैं। उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान बताया था कि आजकल के अंतरराष्ट्रीय फ़ैशन के मुताबिक़ उन्हें भी नोएडा के पड़ोसियों के नक्शे- कदम पर चलना पड़ता है। हर दूसरे साल वे अपने घर का इंटीरियर बदल देते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ कुमार विश्वास अपने एक शो के लिए 5-10 लाख चार्ज करते हैं। वो अब तक कविता पाठ के सिलसिले में 36 देशों की यात्रा कर चुके हैं।

Next Stories
1 Teacher Day 2020: जानिये- शिक्षक दिवस का इतिहास, महत्व और इससे जुड़ी रोचक बातें
2 खेत में हल चलाते नजर आए बाबा रामदेव, बोले- जन्म किसान परिवार में हुआ लेकिन कर्म से योगी बना; हुए ट्रोल
3 COVID-19: प्रेग्नेंसी में गिलोय का सेवन है खतरनाक, ये 5 साइड इफेक्ट भी जान लीजिए
ये पढ़ा क्या?
X