scorecardresearch

Diabetes During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में कितना होना चाहिए शुगर लेवल? जानिये- गर्भावस्था के दौरान कैसे Blood Sugar को करें कंट्रोल

प्रेग्नेंसी के दौरान शुगर बढ़ने का जल्द ही निदान हो जाना चाहिए वरना मां और बच्चे दोनों की सेहत को नुकसान पहुंच सकता है।

Pregnancy
प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के हार्मोन और बॉडी में कई तरह के परिवर्तन होते हैं जिसकी वजह से भी बॉडी में शुगर का स्तर बढ़ने लगता है। file photo

प्रेग्नेंसी में महिलाओं के ब्लड में शुगर का स्तर अक्सर बढ़ जाता है। प्रेग्नेंसी में उन महिलाओं का भी शुगर स्तर बढ़ने लगता है जिन्हें पहले शुगर नहीं होती। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के हार्मोन और बॉडी में कई तरह के परिवर्तन होते हैं जिसकी वजह से भी बॉडी में शुगर का स्तर बढ़ने लगता है। प्रेग्नेंसी में शुगर का बढ़ना जस्टेशनल डायबिटीज कहलाता है। जब बॉडी में इंसुलिन का स्तर कम होता है या फिर बॉडी इंसुलिन का उपयोग नहीं कर पाती तो ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने लगता है।
प्रेग्नेंसी के दौरान शुगर बढ़ने का जल्द ही निदान हो जाना चाहिए वरना मां और बच्चे दोनों की सेहत को नुकसान पहुंच सकता है। प्रेग्नेंसी में ब्लड में शुगर बढ़ने का उपचार डाइट से आसानी से किया जा सकता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को चाहिए कि वो इस परेशानी से बचने के लिए लगातार अपने ब्लड में शुगर का स्तर चेक करें और जांच करें कि उनका नॉर्मल ब्लड शुगर कितना होना चाहिए, अगर ज्यादा है तो उसे कंट्रोल करने के लिए डाइट में सुधार करें।
महिलाओं का प्रेग्नेंसी में नॉर्मल ब्लड शुगर कितना होना चाहिए: अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार प्रेग्नेंट महिलाओं का शुगर लेवल बिना खाए 95 mg/dL या उससे कम होना चाहिए। खाने के एक घंटे के बाद 140 mg/dL या उससे कम होना चाहिए। खाने के दो घंटे बाद प्रेग्नेंट महिलाओं का ब्लड शुगर 120 mg/dL होना चाहिए। अगर शुगर बढ़ जाए तो इन फूड्स से करें कंट्रोल।

ताजे फलों और सब्जियों का करें सेवन: ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें: प्रेग्नेंसी में ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने पर डाइट में ताजे फलों और सब्जियों को शामिल करें। आंवला, नीबू, संतरा, टमाटर, पपीता, खरबूजा, तरबूज, नाशपाती खाने से बॉडी को फायदा होगा। रोजाना 100-150 ग्राम फ्रूट्स खाना सेहत के लिए उपयोगी है।

सब्जियों में मेथी, पालक, करेला, बथुआ, सरसों का साग, सीताफल, ककड़ी, तोरई, टिंडा, शिमला मिर्च, भिंडी, सेम, शलजम, खीरा, ग्वार की फली, चने का साग, सोया का साग, गाजर सेहत को फायदा पहुंचाती है। लहसुन भी प्रेग्नेंसी में फायदेमंद है जो ग्लूकोज के लेवल को कम करता है।

फाइबर और ओमेगा-3 फैटी एसिड का ज्यादा सेवन करें: शुगर कंट्रोल करने के लिए डाइट में ब्राउन व बिना पॉलिश चावल, छिलके वाली दालें, चोकर मिला आटा इस्तेमाल करें। सोयाबीन, साबुत चना, राजमा और लोबिया भी खा सकते हैं।

इन घी और तेल का ही करें सेवन: प्रेग्नेंसी में शुगर को कंट्रोल करने के लिए अलसी, सोयाबीन, सरसों, सूरजमुखी का तेल ही खाएं। महीने में आधा लीटर तेल प्रेग्नेंसी में काफी है।


दूध से बनी चीज़ों का करें सेवन: शुगर कंट्रोल करने के लिए लो फैट दूध, दही, पनीर का सेवन करें। दिन में दो-तीन कप बिना शुगर की चाय पी सकते हैं।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट