scorecardresearch

पांच क‍िमी पैदल चल कर पढ़ने जाते थे पश्‍चिम बंगाल के राज्‍यपाल जगदीप धनकड़, सैन‍िक स्‍कूल में की है पढ़ाई

Jagdeep Dhankar Life Story: जगदीप धनकड़ ने राजस्थान के बार काउंसिल में वकील के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की

पांच क‍िमी पैदल चल कर पढ़ने जाते थे पश्‍चिम बंगाल के राज्‍यपाल जगदीप धनकड़, सैन‍िक स्‍कूल में की है पढ़ाई
जगदीप सबसे कम उम्र में राजस्थान हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष चुने जा चुके हैं

West Bengal Governor Jagdeep Dhankar: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ ने हाल में ही  बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के बाद ममता बनर्जी पर तंज कसा। बता दें कि धनकड़ राजस्थान के झुंझुनू जिले के निवासी हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री व सुप्रीम कोर्ट के प्रतिष्ठित वकील रह चुके जगदीप धनकड़ झुंझुनू के किठाना गांव के रहने वाले हैं। सियासत के मंजे खिलाड़ी माने जाने वाले धनकड़ ने राजस्थान में जाट आरक्षण के दौरान भी अहम भूमिका निभाई थी। आइए जानते हैं उनसे जुड़ी खास बातें –

कहां से हुई है प्रारंभिक पढ़ाई: बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ की शुरुआती पढ़ाई किठाना गांव के सरकारी माध्यमिक विद्यालय से हुई थी। कक्षा पांचवीं तक की पढ़ाई के बाद उन्होंने गर्धाना के गवर्नमेंट मिडिल स्कूल में दाखिला लिया। गांवों के बाकी विद्यार्थियों के साथ धनकड़ भी स्कूल जाने के लिए 4 से 5 किलोमीटर का सफर तय किया करते थे। चित्तौरगढ़ के सैनिक स्कूल में मेरिट के आधार पर जगदीप व उनके बड़े भाई को एडमिशन मिल गया।

किस कॉलेज से हैं जगदीप: जयपुर के महाराजा कॉलेज से जगदीप ने फिजिक्स में स्नातक किया है। इसके बाद 1978-79 के सत्र में उन्होंने वकालत की डिग्री की हासिल की।

इन पदों पर कर चुके हैं काम: जगदीप धनकड़ ने राजस्थान के बार काउंसिल में वकील के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की। सीनियर से सीनियर मोस्ट और फिर अफसर बने जगदीप ने 1990 से सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करना शुरू किया। बता दें कि जगदीप सबसे कम उम्र में राजस्थान हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष चुने जाने का गौरव भी हासिल कर चुके हैं।

निजी परिवार: स्वर्गीय श्री गोकल चंद और केसरी देवी के बेटे जगदीप 4 भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर हैं। उनके एक बड़े भाई और छोटे भाई-बहन हैं। साल 1979 में उनकी शादी सुदेश धनकड़ से हुई। उन दोनों की बेटी कामना की शादी कार्तिकेय वाजपेयी से हुई। जगदीप धनकड़ का एक नवासा भी है जिसका नाम कविश है।

बीजेपी से पहले इन पार्टियों में भी रह चुके हैं: राज्यपाल से पहले धनकड़ केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं। 1989 से करीब 2 सालों के लिए जनता दल के सांसद रह चुके धनकड़ ने इसके बाद कांग्रेस का हाथ थाम लिया। मगर लोकसभा में मिली हार के बाद 2003 से वो बीजेपी का हिस्सा हैं।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 11-12-2020 at 02:22:49 pm
अपडेट