ताज़ा खबर
 

रोजाना पीजिए गाजर का जूस, तेजी से कम होगा वजन

गाजर में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। ऐसे में मोटापा घटाने में यह आपके लिए मददगार हो सकता है।

गाजर में नाइट्रेट काफी मात्रा में होता है जो रक्त वाहिकाओं को चौड़ा होने में मदद करती हैं और इस तरह से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। गाजर का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाने के लिए आप इसका एक ग्लास जूस पीएं।

गाजर आंखों के लिए फायदेमंद होता है यह बात हर कोई जानता है। पोषक तत्वों से भरपूर गाजर का हलवा लोगों को खूब पसंद होता है। विटामिन ए, बीटा कैरोटिन और एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर गाजर सेहत के लिए बेहद फायदेमंद फूड है। यह कोलेस्ट्रॉल से लड़ने में मददगार होता है। इससे दिल को सेहतमंद रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा पाचन में, वजन कम करने में, स्किन, आंखों और नाखूनों से संबंधित तमाम समस्याओं के समाधान में ये काफी मददगार होते हैं। बहुत से पोषण विशेषज्ञ फिट शरीर के लिए गाजर खाने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें वजन कम करने के बेहतरीन गुण विद्यमान होते हैं। गाजर को कच्चा खाना ही अच्छा होता है लेकिन आप इसके जूस का सेवन भी कर सकते हैं। यह वजन कम करने में बेहद फायदेमंद होता है।

फाइबर की भरपूर मात्रा – वजन कम करने के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व फाइबर होता है। इसके सेवन से बार-बार भूख लगने की समस्या से छुटकारा मिल जाता है। ऐसे में वजन कम करने में मदद मिलती है। गाजर में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। ऐसे में मोटापा घटाने में यह आपके लिए मददगार हो सकता है।

पाचन में बेहतर – गाजर को पचाने में ज्यादा मेहनत नहीं लगती। पाचन में बेहतर फूड्स मेटाबॉलिज्म बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इससे भी मोटापा कम करने में मदद मिलती है। गाजर का जूस पीने से आपका मेटाबॉलिज्म बेहतर बना रहता है।

वजन कम करने के लिए गाजर का जूस बनाने की विधि – अगर आप वजन कम करने की कोशिश में हैं तो गाजर का जूस एक बार जरूर इस्तेमाल कीजिए। इसके लिए सबसे पहले गाजर को धोकर काट लीजिए। अब इस कटे हुए गाजर को ब्लेंडर में डालकर ब्लेंड कर लीजिए। थोड़ी मात्रा में फिल्टर्ड पानी भी डाल सकते हैं। सभी सामग्री को अच्छी तरह से ब्लेंड कीजिए। अब एक नट मिल्क बैग अपने कप में रखिए और गाजर के ब्लेंड जूस को उसमें उड़ेल दीजिए। इस जूस रोजाना कम से कम एक गिलास जरूर पीजिए। आप इसमें कुछ और फल जैसे- संतरे या फिर चुकंदर आदि मिला सकते हैं। इससे इसकी पोषण क्षमता बढ़ जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App