ताज़ा खबर
 

बाबा रामदेव के टिप्सः जानिए प्राकृतिक तरीके से कैसे बढ़ेगा वजन, इन चीजों का करना होगा सेवन

योगगुरू बाबा रामदेव का दावा है कि अंडरवेट लोग अगर आयुर्वेदिक वनस्पतियों का सेवन और योग करना शुरू कर दें तो तीन महीने में ही उनकी सेहत में बदलाव देखने को मिल सकता है।

प्रतीकात्मक फोटो (Source: Thinkstock Images)

अंडरवेट लोगों के लिए वजन बढ़ाना काफी मुश्किल होता है। ऐसा अक्सर देखा गया है कि जो लोग मोटापे का शिकार होते हैं और अपनी वजन कम करने की कोशिश में होते हैं उन लोगों का वजन खाना-पान में थोड़ा सा असंतुलन बरतने पर ही बढ़ जाता है, जबकि जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं, लाख कोशिशों के बाद भी उन्हें वांछित सफलता नहीं मिल पाती। दरअसल मोटापे की समस्या की वजह मेटाबॉलिज्म खराब होना होता है जबकि दुबलेपन का प्रमुख कारण पेट का गड़बड़ होना होता है। पाचन तंत्र में गड़बड़ी की वजह से वजन न बढ़ने की शिकायत होती है। योगगुरू बाबा रामदेव का दावा है कि अंडरवेट लोग अगर तमाम तरह के वेट गेन सप्लीमेंट्स का सहारा छोड़कर आयुर्वेदिक वनस्पतियों का सेवन और योग करना शुरू कर दें तो तीन महीने में ही उनकी सेहत में अभूतपूर्व बदलाव देखने को मिल सकता है। तो आइए, जानते हैं कि वे कौन से नुस्खे हैं जो इतनी तेज से वजन बढ़ाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

क्या बताते हैं बाबा रामदेव – बाबा रामदेव के मुताबिक ऐसे लोग जिनका वजन बहुत कम होता है उन्हें नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करना चाहिए। हर रोज कम से कम 2-5 बार सूर्य नमस्कार का अभ्यास करने के साथ-साथ 10-10 बार दंड बैठक भी करना चाहिए। ऐसा करने से एक सप्ताह में ही शरीर में मसल्स का निर्माण शुरू हो जाएगा और तीन महीने में शरीर का वजन आश्चर्यजनक तरीके से बढ़ जाएगा। कपालभाति प्राणायाम करने से भी वजन बढ़ने में काफी मदद मिलती है। अगर आपके मसल्स कमजोर हैं तो आपको खूब दाल और दूध का सेवन करना चाहिए। दही, दूध और छाछ आपकी हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है। इन सबके अलावा खान-पान पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कुछ आयुर्वेदिक औषधियां भी होती हैं जो वजन बढ़ाने में आपकी बहुत मदद कर सकती हैं। जैसे –

अश्वगंधा और इसके साथ शतावर – अश्वगंधा और शतावर के सौ सौ ग्राम पाउडर को मिलाकर दो से तीन ग्राम सुबह शाम दूध के साथ लें।

दूध और केला खाएं – जो लोग अंडरवेट होते हैं वे लोग नियमित रूप से एक गिलास दूध के साथ 3-4 केले का सेवन करें। जिन लोगों को अस्थमा और एसिडिटी की शिकायत रहती है वे केला न खाएं। जिनको अस्थमा की समस्या है वे लोग दूध के साथ 5-10 खजूर का सेवन कर सकते हैं।

दूध और आम – आम के सीजन में दूध के साथ आम खाने से भी तेजी से शरीर का वजन बढ़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App