ताज़ा खबर
 

Weight Loss: फैट से फिट बनने के लिए डाइट में शामिल करें बेसन की कढ़ी, जानिये- वजन कम करने में कैसे है हेल्पफुल

Weight Loss Tips: बेसन से शरीर में कोलाजेन फॉर्मेशन को मजबूत करता है और इसमें एंटी-इंफ्लामेट्री गुण भी होते हैं, ये तत्व मुंहासे, डार्क स्पॉट्स और अन्य स्किन संबंधी समस्याओं को दूर करते हैं।

वजन घटाने के लिए हैं टेस्टी डिशेज से दूर तो खाएं बेसन की कढ़ी, बेहतरीन स्वाद के साथ वजन कम करने में है कारगर

Weight Loss Tips: आज के समय में हर कोई अपने वजन को लेकर चिंतित रहता है। स्वस्थ जीवन गुजारने के लिए लोगों का फिट रहना बहुत जरूरी है। वजनदार लोगों की तुलना में फिट लोग कई बीमारियों से दूर रहते हैं। वेट लॉस करने के लिए लोग कई तरीके अपनाते हैं। तरह-तरह के व्यायाम के साथ ही डाइटिंग और मेडिकल सप्लीमेंट्स के इस्तेमाल से भी नहीं चूकते। पर क्या कभी आपने सोचा है कि किचन में बनने वाला कोई स्वादिष्ट पकवान जिसका नाम सुनते ही कई लोगों के मुंह में पानी आ जाए, उसके सेवन से वजन कम करने में मदद मिल सकती है। जी हां, बेसन की कढ़ी एक ऐसी डिश है जो खाने में स्वादिष्ट तो होती ही है, साथ ही वजन कम करने में भी सहायक होती है। आइए जानते हैं कैसे-

वेट लॉस में है मददगार: बेसन की कढ़ी उत्तर भारत में बनने और पसंद किया जाने वाला एक आम डिश है। बेसन और दही या छांछ से बनने वाली ये कढ़ी अपने अंदर कई स्वास्थ्य संबंधी गुण समेटे हुई है। इसी में से एक है वजन कम करने में मदद करना। बता दें कि गेंहू के आटे से ज्यादा हेल्दी है बेसन का इस्तेमाल करना। बेसन में गुड फैट और प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है। इसके अलावा, इसमें कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स और फोलेट पाया जाता है जो वजन कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। साथ ही, बेसन का ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी बहुत कम होता है। वहीं, छांछ के सेवन से वजन कम करने में आसानी होती है। इसके साथ ही ये इम्यूनिटी बढ़ाने और दिल को सेहतमंद बनाए रखने में भी कारगर है।

पाचन तंत्र को करता है मजबूत: वजन कम करने के अलावा, बेसन की कढ़ी खाने से डायजेस्टिव सिस्टम भी ठीक रहता है। इसमें मौजूद गुड बैक्टीरिया गट यानि कि आंत को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। साथ ही इससे गट फ्लोरा प्रबंधित रहता है और ये न्यूट्रिएंट्स को अब्जॉर्ब करने की शक्ति को भी बेहतर बनाता है। ये सभी चीजें पाचन तंत्र को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करती हैं।

और भी हैं कई फायदे: अनेमिया से पीड़ित मरीज या जिनका हीमोग्लोबिन हमेशा कम रहता है, उनके लिए भी बेसन की कढ़ी फायदेमंद है। इसमें आयरन और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जिससे खून बनने में मदद मिलती है। इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं को भी इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए क्योंकि फोलेट, विटामिन बी-6 और आयरन से भरपूर ये कढ़ी शिशु के ग्रोथ में मददगार है और इससे मिसकैरेज का खतरा भी कम होता है। वहीं, बेसन की कढ़ी में मैग्नीशियम की मौजूदगी से मसल्स रिलैक्स करते हैं जिससे हृदय स्वस्थ बना रहता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 April Fool’s Day 2020 Wishes Images, Messages, Jokes: एक हवा का झोका-सा आया…. इस मैसेज के जरिए अपनों को बनाएं बेवकूफ
2 Weight Loss: लॉक डाउन में घर बैठे करना चाहते हैं फैट बर्न, तो ये टिप्स आएंगे काम…
3 सांसद नुसरत जहां ऐसे रखती हैं खुद को फिट, जानिए उनका फिटनेस और डाइट सीक्रेट