ताज़ा खबर
 

प्रेगनेंट महिला के लिए खतरनाक है विटामिन डी की कमी, बच्चे को घेर सकती हैं ये परेशानियां

विटामिन-डी की कमी को 'सनशाइन विटामिन' के रूप में भी जाना जाता है। इसे हृदय रोग, कैंसर, मल्टीपल स्केलेरोसिस और टाइप 1 डायबिटीज जैसी परेशानियां हो सकती हैं।

मांसपेशियों में दर्द, कमजोरी, हड्डियों में दर्द और हड्डियों का कमजोर होना विटामिन-डी की कमी के लक्षण हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को अपने खानपान का खास ध्यान रखना होता है, क्योंकि उनके खानपान का सीधा असर होने वाले बच्चे पर पड़ता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को वही भोजन करना चाहिए जिनसे जरूरी पोष्टिक तत्व और विटामिन्स मिल सके। आइए आज हम आपको प्रेगनेंट महिला के लिए विटामिन डी जरूरत के बारे में बताते हैं। दरअसल, विटामिन डी महिलाओं डायबिटीज, समय से पहले बच्चे का जन्म और अन्य संक्रमण से बचाता है। इसके सेवन से गर्भावस्था के दौरान कम जटिलताओं का सामना करना पड़ता है। प्रेगनेंसी के दौरान विटामिन-डी की कमी महिलाओं के लिए खतरनाक हो सकती है। हाल ही सामने आए एक शोध से पता चला है कि विटामिन-डी से पीड़ित होती महिलाओं के बच्चों में जन्मजात और वयस्क होने पर मोटापा बढ़ने की अधिक संभावना रहती है।

शोध के मुताबिक प्रेगनेंसी के दौरान शरीर को विटामिन डी की आवश्यकता होती हैं क्योंकि ये कैल्शियम और फास्फोरस का सही लेवल बनाएं रखने में मदद करता है। इससे होने वाले बच्चे की हड्डियों और दांतों के विकास में मदद मिलती है। वहीं पर्याप्त मात्रा में विटामिन-डी लेने वाली महिलाओं के बच्चों की तुलना में 2% अधिक वसा होती है। अमेरिका में दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय की सहायक प्रोफेसर वइया लिदा चाटझी के मुताबिक, ‘ये बढ़ोतरी बहुत ज्यादा नहीं दिखती, लेकिन हम वयस्कों के बारे में बात नहीं कर रहे, जिनके शरीर में 30 प्रतिशत वसा होती है।’

विटामिन-डी की कमी के लक्षण: मांसपेशियों में दर्द, कमजोरी, हड्डियों में दर्द और हड्डियों का कमजोर होना विटामिन-डी की कमी के लक्षण हैं। विटामिन-डी की कमी के लक्षण बहुत कम और बाद में नजर आते हैं। हड्डियों के कमजोर होने से फ्रैक्चर होने की संभावनाएं हो सकती हैं।

विटामिन-डी की कमी से हो सकती हैं ये परेशानियां: विटामिन-डी की कमी को ‘सनशाइन विटामिन’ के रूप में भी जाना जाता है। इसे हृदय रोग, कैंसर, मल्टीपल स्केलेरोसिस और टाइप 1 डायबिटीज जैसी परेशानियां हो सकती हैं। विटामिन डी की कमी के चलते भ्रूण के फेफड़ों के विकास की समस्या और अस्थमा जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

विटामिन-डी के लिए किन चीजों को सेवन करें: प्रेगनेंट महिलाओं को विटामिन-डी की कमी से बचने के लिए अंडे, वसा वाली मछली, फिश लिवर ऑयल, दूध, पनीर, दही और अनाज जैसे खाद्य पदार्थो का सेवन करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App