scorecardresearch

इस एक विटामिन की कमी के कारण मां-बाप बनने में हो सकती है परेशानी, जानिए शरीर में Vitamin के स्तर को कैसे बढ़ाएं

हमारे शरीर को प्रोटीन, कैलशियम व विटामिंस की आवश्यकता होती है। इसके लिए हमें विटामिन व मिनरल्स से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए।

इस एक विटामिन की कमी के कारण मां-बाप बनने में हो सकती है परेशानी, जानिए शरीर में Vitamin के स्तर को कैसे बढ़ाएं
डायबिटीज के मरीज बॉडी में विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए दिन में 10-15 मिनट सुबह की गुनगुनी धूप में रहें। photo-freepik

हम में से अधिकांश लोग विटामिन डी को सूर्य के प्रकाश से प्राप्त करते हैं और प्रतिदिन केवल 20 मिनट धूप में रहना इसके स्तर को बढ़ाने के लिए पर्याप्त है। विटामिन डी मानव शरीर में कैल्शियम और फॉस्फेट के स्तर को नियंत्रित करता है। स्वस्थ हड्डियों, दांतों और मांसपेशियों के लिए ये पोषक तत्व आवश्यक हैं। यह सामान्य हड्डी और दांतों के विकास और विकास के साथ-साथ कुछ बीमारियों के लिए बेहतर प्रतिरोध के लिए भी आवश्यक है। इनके अलावा, विटामिन डी पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता में भी अपनी अहम भूमिका निभाता है। इसमें शुक्राणु की गुणवत्ता के साथ-साथ डिम्बग्रंथि उत्तेजना को बढ़ावा देने की भी क्षमता है।

विटामिन डी और महिला प्रजनन क्षमता के बीच क्या संबंध है?

विटामिन डी स्वस्थ गर्भावस्था के साथ-साथ महिलाओं की प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। आईवीएफ और फ्रिज अर्थात जमे हुए भ्रूण स्थानांतरण की प्रभावशीलता को भी बढ़ावा देने में विटामिन डी की भूमिका को अहम माना गया है। कई अध्ययनों में पाया गया है। कि विटामिन डी के ब्लड लेवल 30ng/ml वाली महिलाओं में गर्भावस्था की दर निम्न स्तर वाली महिलाओं की तुलना में अधिक होती है।

अध्ययनों के अनुसार, पर्याप्त विटामिन डी स्तर वाली महिलाओं में निम्न स्तर वाली महिलाओं की तुलना में आईवीएफ के माध्यम से गर्भ धारण करने की संभावना चार गुना अधिक होती है। जबकि विटामिन डी की उच्च मात्रा प्रजनन क्षमता में वृद्धि नहीं कर सकती है, कई शोध में यह बात समाने आई है कि विटामिन डी की कमी प्रजनन क्षमता को नुकसान पहुंचा सकती है और अस्वस्थ बच्चों को जन्म दे सकती है।

विटामिन डी और पुरुष प्रजनन क्षमता के बीच क्या संबंध है?

वीर्य की गुणवत्ता और शुक्राणु की गतिशीलता विटामिन डी के उच्च स्तर और पुरुष प्रजनन क्षमता से संबंधित है । जिन पुरुषों में विटामिन डी का स्तर अधिक होता है, उनके शुक्राणुओं में कैल्शियम का स्तर अधिक होता है। जैसे-जैसे शुक्राणु कैल्शियम का स्तर बढ़ता है, गतिशीलता भी बढ़ती है। विटामिन डी की कमी वाले पुरुषों में शुक्राणु की गतिशीलता में कमी और गतिशील शुक्राणुओं की कुल संख्या में कमी से पीड़ित हो सकते हैं।

विटामिन डी की कमी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है

तय मात्रा से अधिक विटामिन डी लेने से प्रजनन क्षमता कोप बढ़ाने में उतनी मदद नहीं मिलती है, इसलिए अनुशंसित स्तरों से कम या कमियों को प्रजनन संबंधी मुद्दों से जोड़ा गया है। विटामिन डी की कमी प्रजनन संबंधी मुद्दों और प्रतिकूल गर्भावस्था परिणामों से जुड़ी हुई है। विटामिन डी की कमी और प्रजनन क्षमता के बीच संबंध के अलावा, स्तन के दूध में विटामिन डी का निम्न स्तर भी जुड़ा हुआ है। विटामिन डी वयस्कों और शिशुओं दोनों में मस्कुलोस्केलेटल स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।

विटामिन डी के प्रकार-

1.) विटामिन D2(एग्रो कैल्सी फेरोल)

विटामिन D2 मनुष्य के शरीर में नहीं होता है। यह विटामिन पौधों से प्राप्त किया जा सकता है। इस विटामिन का निर्माण पौधे सूरज की पराबैंगनी किरणों की उपस्थिति में करते हैं।

2.) विटामिन D3(कोलेकैल्सिफेरॉल)

इस विटामिन का निर्माण मनुष्य के शरीर में ही होता है। यह मनुष्य द्वारा सूरज की किरणों से प्रतिक्रिया होने से निर्मित होता है। इस विटामिन को हम मछली के सेवन से भी प्राप्त कर सकते हैं।

विटामिन डी की कमी के लक्षण

  • डायबिटीज होना
  • शरीर में झुर्रियां पड़ना
  • कैंसर का खतरा होना
  • थकान महसूस करना
  • इम्यूनिटी कमजोर होना
  • डिप्रेशन और तनाव होना
  • मांसपेशियां कमजोर होना
  • हड्डियों का मुलायम होना
  • ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप)
  • बच्चों में रिकेट्स रोग का होना
  • जोड़ों और हड्डियों में दर्द होना

शरीर में विटामिन डी का स्तर कैसे बढ़ाएं?

यदि आप गर्भवती होने का प्रयास कर रही हैं या पहले ही कर चुकी हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त विटामिन डी ले रही हैं। सूरज विटामिन डी के बेहतरीन स्रोतों में से एक है, और हर दिन कम से कम 20 मिनट धूप में बैठना आपके लिए सबसे बेहतर ऑप्शन है। सूरज की रोशनी से विटामिन डी प्राप्त करने के अलावा विटामिन डी के स्तर को बढ़ाने के कई अन्य तरीके भी हैं।

सबसे अच्छे प्राकृतिक विटामिन डी स्रोतों में वसायुक्त मछली और समुद्री भोजन शामिल हैं। इनका सेवन करना विटामिन डी प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है। UV विकिरण के संपर्क में आने पर मशरूम में भी मनुष्यों की तरह, विटामिन डी बनाते हैं। विटामिन डी का स्तर UV विकिरण के साथ इलाज किए गए जंगली मशरूम या व्यावसायिक रूप से खेती वाले मशरूम में सबसे अधिक होता है। इसलिए मशरूम का सेवन अधिक करें।

अंडे की जर्दी को अपने आहार में शामिल करना चाहिए, यह विटामिन डी का एक और स्रोत है जिसे आप आसानी से अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए हम संतरा, दूध, दही, अनाज आदि चीज़ों को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट