UPSC: ग्रेजुएट होने के बाद नहीं मिली नौकरी तो आ गए थे दिल्ली, पांचवे प्रयास में जावेद हुसैन को मिली कामयाबी, जानिए कैसे बने IAS

जावेद हुसैन को पांचवे प्रयास में कामयाबी हासिल हुई थी। इससे पहले दो प्रयास में वह इंटरव्यू राउंड तक पहुंचने के बाद बाहर हो गए थे और दो में प्रीलिम्स तक क्लियर नहीं कर पाए थे।

UPSC, IAS Officer
IAS अधिकारी जावेद हुसैन (Photo- DKT/Youtube)

UPSC क्लियर करने का सपना हर पढ़े-लिखे युवा का होता है, लेकिन कई बार असफलता से निराशा हाथ लगती है। लेकिन लगातार मेहनत करने से कामयाबी भी जरूर मिलती है। आज हम आपको ऐसे ही कैंडिडेट की कहानी के बारे में बताएंगे, जिन्होंने यूपीएससी की तैयारी तो शुरू कर दी थी, लेकिन उन्हें कामयाबी हासिल नहीं हो पा रही थी। वह कई बार निराश भी हो गए थे, लेकिन उन्हें ये पता था कि लगातार मेहनत करने से वह कामयाब जरूर होंगे।

हम बात कर रहे हैं जावेद हुसैन की। जावेद को UPSC CSE-2018 एग्जाम में कामयाबी हासिल कर वह IAS अधिकारी बनने में कामयाब हुए थे। जावेद के लिए ये सफर इतना आसान नहीं था। जावेद का परिवार मूल रूप से झारखंड का रहने वाला है और उनके पिता वन विभाग में नौकरी करते हैं। जावेद ने बताया था कि उनके परिवार ने काफी आर्थिक परेशानियों का सामना किया है। लेकिन वह बचपन से ही आईएएस बनना चाहते थे।

नहीं मिली थी नौकरी: दसवीं कक्षा में जावेद हुसैन ने पूरे जिले में टॉप किया था और बाहरवीं के लिए बोकारो आ गए थे। बारहवीं में उन्हें अच्छे अंक मिले थे। इसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग करने का फैसला किया। भोपाल के इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट से पढ़ाई करने के बाद उनकी कहीं नौकरी नहीं ली। जावेद याद करते हैं, इससे वह काफी निराश हो गए थे। क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि वह कैंपस प्लेसमेंट में सलेक्ट होंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

जावेद ने इसके बाद दिल्ली रुख करने का फैसला किया। वह गेट परीक्षा की तैयारी करने के लिए दिल्ली चले आए थे। यहां उन्होंने इंजीनियरिंग सर्विस की परीक्षा भी दी थी। तीसरे प्रयास में उन्हें गेट परीक्षा में 123 और इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेस में 24वीं रैंक मिली। यह साल 2013 की बात है।

प्रीलिम्स तक नहीं कर पाए थे क्लियर: जावेद ने एक इंटरव्यू में अपने संघर्ष की कहानी बताई थी। उन्होंने बताया था कि वह पहले ही प्रयास में इंटरव्यू राउंड तक पहुंच गए थे। इससे उन्हें बहुत आत्मविश्वास आ गया था और वह आगे भी यूपीएससी की तैयारी जारी रखना चाहते थे, लेकिन दूसरे प्रयास में वह बिल्कुल टूट गए क्योंकि इसमें उनका प्रीलिम्स तक भी क्लियर नहीं हो पाया था। उन्होंने खुद को संभाला और तीसरे प्रयास में वह फिर इंटरव्यू राउंड तक पहुंच गए। चौथे प्रयास में उनकी प्रीलिम्स भी क्लियर नहीं हुआ।

जावेद हुसैन कहते हैं, ‘यूपीएससी आपको बहुत सारी चीजें सिखाती है। कई बार आप इंटरव्यू राउंड तक पहुंच जाते हो, लेकिन दूसरे ही प्रयास में आपका चयन नहीं हो पाता है। इससे आपको निराशा भी होती है और कई बार तो खुद को संभालना भी मुश्किल हो जाता है। आपको लगने लगता है कि आपकी तैयारी कम हो रही है, लेकिन ये एग्जाम ऐसा ही होता है। इसलिए ऐसी सभी चीजों को दरकिनार कर आपको खुद को संभालना बहुत जरूरी भी होता है।

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट