ताज़ा खबर
 

आंखों को रोग रहित रखने में मददगार साबित हो सकती हैं योग की ये क्रियाएं

आंखों की सेहत के लिए ब्लिंकिंग एक्सरसाइज बहुत असरदार है। इसे करने के लिए सबसे पहले सीधे बैठ जाएं और दस बार अपनी पलकों को तेजी से झपकाएं। इसके बाद...

प्रतीकात्मक फोटो

आजकल बहुत कम उम्र के बच्चों में भी नजर में कमी की समस्या देखी जा रही है। लगातार टीवी देखते रहने या फिर वीडियो गेम्स खेलने की वजह से उन्हें बहुत ही कम उम्र में चश्मा लग जाता है। ऐसे में आंखों की दृष्टि में कमी को दूर करने के लिए योग काफी कारगर साबित हो सकता है। योग से यह समस्या जड़ से दूर हो सकती है और चश्मा पूरी तरह से छुड़वाया जा सकता है। चलिए आज हम आपको ऐसे योग आसनों के बारे में बताते हैं जिनके अभ्यास से आंखों को रोग रहित रखा जा सकता है।

पामिंग: इस आसन को करने के लिए वज्रासन या सिद्धासन में बैठ कर दोनों हाथों की हथेलियों को अच्छी तरह से आपस में इतना रगड़ें कि हाथों में पर्याप्त गर्मी आ जाए। इसके बाद हथेलियों को बन्द आंखों पर कुछ देर तक रखें। इस समय बन्द आंखों से काले आसमान पर दृष्टि स्थिर रखें। कुछ देर बाद हथेलियों को आंखों से हटा कर नीचे रखें।

ब्लिंकिंग: आंखों की सेहत के लिए ब्लिंकिंग एक्सरसाइज बहुत असरदार है। इसे करने के लिए सबसे पहले सीधे बैठ जाएं और दस बार अपनी पलकों को तेजी से झपकाएं। इसके बाद अपनी आंखें बंद कर लें। और बीस मिनट तक के लिए उसे आराम दें।

साइड व्यूइंग: इस आसन को करने के लिए सबसे पहले अंगूठे को खड़ा करते हुए हाथों को सामने लाएं। दांए हाथ को दांयी ओर नीचे की तरफ ले जाएं और बाएं हाथ को सिर की तरफ उपर की ओर ले जाएं। अब अपनी पुतलियों से एक बार दांयें अंगूठे को देंखे और फिर बाएं अंगूठे की ओर नजर ले जाएं। इसे पांच बार करना है। फिर यही प्रक्रिया विपरीत दशा में करनी होगी।

रोटेशन: सिर को स्थिर रखें और सामने देखें। इसके बाद पुतलियों को घड़ी की दिशा में चारो ओर घुमाएं। इस प्रक्रिया एक समय में कम से कम 5 बार दोहराएं और फिर आंखों को 30 सेकेंड के लिए बंद करके आराम दें। आपको ये एक्सरसाइज नियमित करनी है। यकीन मानिए अगर आप इस एक्सरसाइज के बारे में डॉक्टर से भी बात करेंगे तो वो भी आपको इसे करने के लिए मना नहीं करेंगे। आंखों के लिए ये एक्सरसाइज वाकई बहुत फायदेमंद है।

शवासन: शवासन सबसे आखिर में किया जाने वाला आसन है। इसे करने के लिए सीधा लेट जाएं और शरीर के सभी अंगों को शिथिल छोड़ दें। कुछ देर इसी स्थिति में रहें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App