X

दुख की घड़ी में ऐसे देना चाहिए दोस्त का साथ

दुख के समय दोस्त को कभी भी तुंरत साहसी बनने और सब भूलकर आगे बढ़ने की सलाह न दें। क्योंकि आप इस बात का सही अंदाजा नहीं लगा सकते कि जो आपके दोस्त ने खोया है वह उसके लिए कितना अजीज था।

हादसे कभी भी और किसी के साथ भी हो सकते हैं लेकिन हादसे के बाद आप खुद को या दूसरों को कैसे संभालते हैं यह बहुत मायने रखता है। दुख की घड़ी में किसी का थोड़ा सा भी सहारा आपको काफी होता है। अगर आपके किसी दोस्त ने अपने किसी करीबी को खोया है तो उसका ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाता है। लेकिन कई बार आप दोस्त को संभालने के चक्कर में दुख के करीब कर देते हैं और सब उल्टा हो जाता है। ऐसे में कुछ बातों का ध्यान रखने से न सिर्फ आपके दोस्त को अच्छा लगेगा बल्कि गहरे सदमे से निकलने में सहायता मिलेगी।

खामोशी से काम लें: अगर आपके किसी दोस्त ने अपने करीबी को खोया है तो दिलासा देने के चक्कर में बेतुकी बातें न करें। ऐसे में समझदारी और खामोशी से काम लें। हालांकि उनसे यह जरूर पूछें की उन्हें किसी चीज की जरूरत तो नहीं है। इससे आपका दोस्त खुद को अकेला महसूस नहीं करेगा। उसे यह अहसास होगा कि आप हर मुश्किल घड़ी में उसके साथ ही हैं।

साहसी बनने के लिए न कहें: दुख के समय दोस्त को कभी भी तुंरत साहसी बनने और सब भूलकर आगे बढ़ने की सलाह न दें। क्योंकि आप इस बात का सही अंदाजा नहीं लगा सकते कि जो आपके दोस्त ने खोया है वह उसके लिए कितना अजीज था। अकसर लोग दिलासा देने के चक्कर में यह कह देते हैं कि ‘जो होता है अच्छे के लिए होता है’ या ‘सब ठीक हो जाएगा।’ इससे दोस्त को दुख कम होने के बजाए बढ़ सकता है।

साथ समय बिताने की कोशिश करें: किसी को खो देने के एहसास को हर व्यक्ति को खुद ही बर्दाश्त करना पड़ता है। कुछ लोगों को दुख से उबरने में महीनों-महीनों तक लग जाते हैं। वे खुद को सबसे अलग कर लेते हैं, बंद कमरे में समय बिताते हैं और अंदर ही अंदर परेशान रहते हैं। ऐसे में दोस्त के साथ बिताया समय काफी कीमती होता है। इससे उन्हें दुख भुलाने में मदद मिलेगी। उन्हें बाहर घुमाने ले जाएं, लेकिन जबरदस्ती बिल्कुल न करें।

प्रोफेशनल की सलाह लें: कई बार काफी समय बीत जाने के बाद भी कुछ लोग अपनों को खोने के गम को कम नहीं कर पाते। अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं, लोगों से मेल-जोल खत्म कर देते हैं, छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करते हैं या दुखी होते हैं, अक्सर मौत के बारे में बात रहते हैं। इसके अलावा नशीले पदार्थों का सेवन करने लगते हैं उन्हें किसी प्रोफेशनल के पास लें जाएं और उचित सलाह लें।

Outbrain
Show comments