ताज़ा खबर
 

अगर आप हैं प्रेग्नेंट तो जरूर करवाएं ये टेस्ट, गर्भ में पल रहे हैं बच्चे के लिए भी हैं जरूरी

प्रेग्नेंसी के दौरान अपना खास ख्याल रखने की जरुरत होती है, शुरूआती दौर में कुछ महत्वपूर्ण टेस्ट जरुरी होते हैं।

pregnancy, pregnancy tests, important tests during pregnancy, tests during pregnancy, important pregnancy tests in hindi, pregnancy tests in hindi, pregnancy tips, pregnancy tips in hindi, lifestyle news, lifestyle news in hindi, jansattaयह चित्र प्रतीक के तौर पर लिया गया है

किसी भी महिला के लिए पहली बार मां बनने का अहसास बड़ा सुखद होता है। मां बनने के सुखद अहसास के साथ ही उसे प्रेग्नेंसी के दौरान कई जरूरी टेस्टों से भी गुजरना होता है। प्रेग्नेंट होने के बाद महिला के शरीर के भीतर कई परिवर्तन होते हैं, जिन्हें समझना किसी भी महिला या अन्य व्यक्ति के लिए बहुत मुश्किल होता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी को सुरक्षित और नॉर्मल बनाए रखने के लिए प्रेग्नेंसी में टेस्ट करवाना जरूरी हो जाता है। आइये जानते हैं आखिर कौन-कौन से टेस्ट होते हैं जरूरी…

सीबीसी (कम्पलीट ब्लड काउंट)- प्रेग्नेंसी में सबसे पहला टेस्ट सीबीसी होता है। इसके जरिए पता लगाए जाता है कि आपके खून में हिमोग्लोबिन कितना है। इसके कम होने से रेड ब्लड सेल्स इफेक्ट होते हैं, जिनकी वजह से एनीमिया हो सकता है।

प्लेटलेट्स- यह आपके शरीर में ब्लड क्लोट्स बनाने में मदद करते हैं, प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के शरीर से आधा लीटर खून निकलता है। प्लेटलेट्स खून का ज्यादा रिसाव होने से रोकते हैं। अगर इनकी संख्या कम होती है तो डॉक्टर इसका इलाज करते हैं।

यौन संचारित रोगों की जांच- प्रेग्नेंसी के शुरुआती समय में ही इस टेस्ट को करवा लेना चाहिए। जिससे अगर माता-पिता में से किसी को ये बिमारी है तो यह बच्चे को आ जाती है तो वो जानलेवा हो सकती है। इसका सही समय पर इलाज करवा कर इससे बचा जा सकता है।

एनीमिया- इस टेस्ट को भी डॉक्टर शुरुआती समय में करवाने की सलाह देते हैं। एनीमिया ऐसी बीमारी है जिसमे शरीर में खून की कमी रहती है और नया खून नहीं बनता। ऑर्टिफिशियल तरीके से ही उनमें खून चढ़ाया जाता है, यह एक खतरनाक बीमारी है, जिससे मां के गर्भ में पल रहा बच्चा भी ग्रसित हो सकता है। इसकी समय पर जांच करवा लेनी चाहिए।

शुगर- प्रेग्नेंट महिला को ज्यादा से ज्यादा यूरीन पास करने की जरूरत होती है। डॉक्टर भी यूरीन टेस्ट करते हैं जिससे पता लगता है कि महिला की बॉडी में इंसुलीन किस मात्रा में बन रहा है। प्रेग्नेंसी हॉर्मोंस इन्सुलिन बनाना बंद कर देते हैं, जिससे शुगर की सम्भावना बढ़ जाती है। इस टेस्ट का भी सही समय पर करवा लेना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मेकअप कुछ देर की खूबसूरती के साथ दे सकता है जिंदगीभर का दर्द, जानें क्या है इसके साइड इफेक्ट
2 क्या आप भी हैं पिंपल्स से परेशान तो अपनाएं ये घरेलू उपाय, कुछ ही दिन में हो जाएंगे गायब
3 घरेलू महिलाएं इन टिप्स को अपनाकर कम कर सकती हैं अपना वजन
ये पढ़ा क्या?
X