ताज़ा खबर
 

आप और राहुल गांधी एक पन्ने पर क्यों नजर नहीं आ सकते? बरखा दत्त के सवाल पर प्रशांत किशोर ने दिया था ऐसा जवाब

रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा था कि राहुल गांधी को लगता है कि नरेंद्र मोदी को हराकर ही चुनाव में कांग्रेस वापसी कर पाएगी, लेकिन उन्हें पार्टी की पकड़ मजबूत करने पर काम करना चाहिए। भले ही इसमें 5-10 साल लग जाएं।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर। एक्सप्रेस फोटो

रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने हाल ही में राहुल गांधी से मुलाकात की थी। दोनों की मुलाकात के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि प्रशांत किशोर कांग्रेस के साथ आ सकते हैं। अगले साल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव होने हैं और दूसरी तरफ पंजाब कांग्रेस में भी घमासान मचा हुआ है। फिलहाल पंजाब कांग्रेस की कमान नाराज चल रहे नवजोत सिंह सिद्धू को दे दी गई है। इसी बीच प्रशांत किशोर का एक पुराना इंटरव्यू तेजी से वायरल हो रहा है।

इस पुराने वीडियो में वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त से बात करते हुए प्रशांत किशोर राहुल गांधी और कांग्रेस को लेकर कई बातें कहते हैं। प्रशांत किशोर से बरखा दत्त पूछती हैं, ‘ऐसा क्या कारण है कि आपने कहा कि आप और राहुल गांधी कभी एक पन्ने पर नजर नहीं आ सकते?’ प्रशांत किशोर कहते हैं, ‘हम दोनों के बीच कई चीजों को लेकर मतभेद हैं। राहुल के हाथ में कांग्रेस की कमान है तो उनके ऊपर काफी प्रेशर होगा।’

2004 में कांग्रेस को मिली थीं 140 सीटें: प्रशांत किशोर कहते हैं, ‘राहुल को लगता है कि कांग्रेस खुद ही वापसी करेगी। आप डेटा देखेंगे तो कांग्रेस भले ही 10 साल तक सत्ता रही हो, लेकिन कांग्रेस का कद 1985 से लगातार घट ही रहा है। 1989 में राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के 197 सांसद जीते थे। 2004 में कांग्रेस को 140 सीटें मिली थीं। यही एक मतभेद है राहुल और मेरे बीच। दूसरी बात है कि राहुल गांधी को लगता है कि मोदी को हराना टारगेट होना चाहिए।’

राहुल गांधी को करना चाहिए पार्टी मजबूत करने पर काम: प्रशांत किशोर कहते हैं, ‘राहुल गांधी को लगता है कि मोदी को हराकर ही कांग्रेस वापसी कर पाएगी। मुझे लगता है कि आप 48 साल के हैं और कांग्रेस की कमान आपके हाथ में हैं तो आप भले ही 2019 में कांग्रेस को जीत न दिला पाएं, लेकिन आपको पार्टी की पकड़ जमीनीस्तर पर मजबूत करनी चाहिए।

भले ही पार्टी को जीत दिलवाने में 5 या 10 साल लग जाएं।’ इससे पहले भी प्रशांत किशोर कह चुके हैं कि 2017 यूपी चुनाव से पहले उन्होंने अखिलेश यादव से गठबंधन करने के लिए मना किया था। हालांकि बाद में उन्होंने खुद को कांग्रेस से अलग कर लिया था।

Next Stories
1 Weight Loss: तेजी से वजन घटाने में मददगार साबित होते हैं ये 5 फल और सब्जियां
2 ब्लड शुगर घटने-बढ़ने के क्या हैं संकेत, जानिये
3 CM लैपटॉप इसलिए नहीं बांटते क्योंकि खुद चलाना नहीं जानते- योगी आदित्यनाथ पर अखिलेश यादव का तंज़, 2022 का प्लान भी बताया
ये पढ़ा क्या ?
X