ताज़ा खबर
 

टूथपेस्ट लगाने से और खराब हो सकती है मुहांसों की हालत, जानें कैसे

बहुत से लोग त्वचा पर से मुहांसों को दूर करने के लिए टूथपेस्ट के इस्तेमाल की सलाह देते हैं। बहुत से लोग एक्ने हटाने के लिए इसका इस्तेमाल करते भी हैं,

प्रतीकात्मक चित्र

चेहरे पर मुहांसे होना एक बड़ी समस्या की तरह होती है। बाजार में मुहांसों को जड़ से खत्म करने वाले बहुत से क्रीम्स मौजूद हैं। घरेलू उपचार के तौर पर भी मुहांसों का बहुत सा इलाज मौजूद है। इसी तरह का एक इलाज है टूथपेस्ट। बहुत से लोग त्वचा पर से मुहांसों को दूर करने के लिए टूथपेस्ट के इस्तेमाल की सलाह देते हैं। बहुत से लोग एक्ने हटाने के लिए इसका इस्तेमाल करते भी हैं, लेकिन विशेषज्ञों और तमाम शोधों का कहना है कि चेहरे पर या शरीर की किसी भी त्वचा पर टूथपेस्ट लगाना सही नहीं होता। आइए जानते हैं कि इसके पीछे कारण क्या है?

क्या टूथपेस्ट मुहांसों का इलाज करता है?

बहुत से लोग इस बात का दावा करते हैं कि मुहांसों पर टूथपेस्ट लगाने से उनके मुहांसे ठीक हो गए। लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि टूथपेस्ट का इस्तेमाल मुहांसों पर करने से त्वचा के इर्रिटेशन और रेडनेस जैसी समस्या सामने आती है। दरअसल ज्यादातर टूथपेस्ट दांतो की सफाई के साथ मुंह की बदबू दूर करने का भी दावा करते हैं। इसके लिए टूथपेस्ट में ऐसे तत्व मिलाए जाते हैं जो बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं ताकि सांसों से बदबू की समस्या का समाधान हो सके। ऐसा माना जाता है कि यही तत्व एक्ने पैदा करने वाले बैक्टीरिया को भी खत्म कर देते हैं। लेकिन टूथपेस्ट में एंटी-बैक्टीरियल तत्व दांतों और सांसों में मौजूद बैक्टीरिया को ध्यान में रखकर मिलाए जाते हैं जो हर तरह से त्वचा के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

टूथपेस्ट के मुहांसों के इलाज के रूप में इस्तेमाल किए जाने को लेकर किए गए एक शोध में बताया गया है कि मुहांसों का इलाज करने वाली औषधियों और टूथपेस्ट दोनों में ट्राइक्लोजन नाम का एंटी-बैक्टीरियल तत्व इस्तेमाल किया जाता है। यह मुहांसे खत्म करने वाली हर दवा में इस्तेमाल किया जाता है। ऐसी दवाओं में ट्राइक्लोजन का इस्तेमाल एक विशेष प्रकार के फॉर्मूले के तहत किया जाता है। ऐसे में हर उस उत्पाद का इस्तेमाल मुहांसों के ट्रीटमेंट के लिए करना सही नहीं है जिसमें ट्राइक्लोजम मिला हुआ हो। ट्राइक्लोजन युक्त टूथपेस्ट त्वचा पर लगाने के लिए किसी भी तरह से उपयुक्त नहीं है। डॉक्टर्स के मुताबिक मुहांसों पर इसका इस्तेमाल करने से उनकी स्थिति और खराब हो सकती है।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App