scorecardresearch

स्वामी प्रसाद मौर्य को उनका पुराना बयान याद दिला सुशांत सिन्हा ने पूछा- क्या अब भी इसपर कायम हैं? देने लगे गोलमाल जवाब

स्वामी प्रसाद मौर्य के बीजेपी से इस्तीफ़ा देने के बाद तीन तलाक पर दिए गए बयान को लेकर जब सवाल पूछा गया तो वह गोलमोल जवाब देने लगे।

swami prasad maurya, up election
स्वामी प्रसाद मौर्य(फोटो सोर्स: PTI)।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का साथ छोड़ने के बाद से ही स्वामी प्रसाद मौर्य योगी सरकार पर हमलावर हैं और सत्ता से बेदखल करने की हुंकार भर रहे हैं। उनका आरोप है कि योगी सरकार ने दलितों-पिछड़ों की अनदेखी की, इसलिये वह सपा के साथ आए हैं। इसी बीच मौर्य के कई पुराने बयान के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

इन्हीं में से एक वीडियो में वह अखिलेश यादव की तीखी आलोचना करते दिख रहे हैं। वहीं, एक अन्य वीडियों में तीन-तलाक कानून को लेकर मोदी सरकार का गुणगान। जब मौर्य के इन्हीं बयानों को लेकर उनसे सवाल पूछा गया तो पूर्व मंत्री गोलमोल जवाब देने लगे।

क्या अपने बयान पर कायम हैं? स्वामी प्रसाद मौर्य टाइम्स नाउ नवभारत चैनल पर एक इंटरव्यू के लिए पहुंचे थे। जहां एंकर सुशांत सिन्हा ने मौर्य के पुराने बयान का जिक्र करते हुए पूछा कि आपने एक बार कहा था कि लोग तीन तलाक देकर पत्नी को छोड़ देते हैं और अपनी हवस पूरी करते हैं, समाजवादी पार्टी का बड़ा वोट बैंक मुसलमान है, तो क्या अभी भी आप अपने बयान पर कायम हैं?  इस पर मौर्य ने जवाब देते हुए कहा कि देखिये मैंने बस तीन तलाक का स्वागत किया था…।

गोलमोल जवाब देने लगे मौर्य: इसके उलट में जब एंकर ने मौर्य से फिर सवाल पूछा कि तो क्या आप समाजवादी पार्टी के मंच पर खड़े होकर बोलेंगे कि तीन तलाक वाली महिलाएं मोदी जी के लिए वोट करें क्योंकि उन्होंने ही इसे खत्म किया? इस सवाल का जवाब देते हुए मौर्य गोलमोल बातें करने लगे। उन्होंने कहा कि  “देखो, जो सही था, हमने कहा था और जो सही होगा वो कहेंगे।”

आपको बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीजेपी को बड़ा झटका देते हुए योगी कैबिनेट से इस्तीफ़ा दे दिया था और फिर समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। मौर्य के इस्तीफे के बाद बीजेपी से जाने वाले नेताओं और मंत्रियों की कतार देखने को मिली। खबर लिखे जाने तक करीब 15 बीजेपी नेता (विधायक, मंत्री समेत) पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।

‘गोरखपुर से लाकर सीएम बैठा दिया’: शुक्रवार को समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा था कि बीजेपी ने दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों की आंखों में धूल झोंक कर सत्ता पाई थी। केशव मौर्य और स्वामी मौर्य का नाम उछालकर पिछड़ों के बलबूते सरकार बनाई थी। लेकिन बाद में गोरखपुर से लाकर सीएम बिठा दिया गया। साथ ही उन्होंने कहा कि वह 80 और 20 का नारा दे रहे हैं। यह 80 और 20 नहीं होगा। अब तो होगा 15 और 85 का। 85 तो हमारा है 15 में भी बंटवारा है।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट