ताज़ा खबर
 

रामविलास पासवान की दूसरी पत्नी का दिल्ली में है मायका, लेकिन कभी रात को वहां नहीं रुकती थीं, लगी रहती थी एक बात की चिंता

पासवान ने बताया था कि रीना का मायका दिल्ली में ही है। इसके बावजूद दोनों दिल्ली में कभी अलग नहीं रहे। अगर रीना कभी अपने मायके गईं तो उसी दिन वापस आ जाती थीं। कभी रात नहीं रुकीं।

रामविलास पासवान की दूसरी पत्नी रीना पासवान कभी-भी अपने मायके में रात को नहीं रुकती थीं। (फाइल फोटो)

रामविलास पासवान की उम्र जब करीब 8 साल थी तभी उनकी ग्रामीण परिवेश से ताल्लुक रखने वालीं राजकुमारी देवी से शादी करा दी गई थी। हालांकि पासवान का ज्यादा वक्त शहर में ही बीता। ऐसे में उनके और राजकुमारी देवी के बीच पसंद-नापसंद, रहन-सहन और बौद्धिक स्तर पर जमीन-आसमान का अंतर था। साल 1977 में जब वे पहली बार बिहार के हाजीपुर से रिकॉर्ड वोट से लोकसभा चुनाव जीतकर दिल्ली आए तो उनकी मुलाकात वाणिज्य मंत्रालय में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर कार्यरत गुरबचन सिंह से हुई। इसी दौरान वे गुरुबचन की बेटी अविनाश कौर के संपर्क में भी आए।

पासवान और अविनाश कौर की नजदीकी बढ़ी और बाद में दोनों ने शादी का फैसला कर लिया। शादी के बाद अविनाश कौर ने अपना नाम बदलकर रीना पासवान रख लिया। पेंग्विन प्रकाशन से हाल ही में आई पासवान की जीवनी ‘रामविलास पासवान: संकल्प, साहस और संघर्ष’ में प्रदीप श्रीवास्तव ने लोजपा के दिवंगत नेता के निजी जीवन से जुड़े तमाम किस्सों को दिलचस्प अंदाज में पेश किया है।

मायके में रात नहीं रुकीं रीना: रामविलास पासवान अपनी दूसरी पत्नी रीना को प्यार से ‘बीके’ कहकर पुकारा करते थे। उन्होंने कहा था कि मुझे याद नहीं कि एक दिन भी ऐसा बीता हो जब बीके से मेरी बात नहीं हुई हो। अगर कहीं अकेले बाहर जाना हुआ तो सुबह और शाम कम से कम 2 बार तो फोन पर बात हो ही जाती है। या तो ये फोन कर लेती हैं या मैं ही मिलवा लेता हूं।

पासवान ने बताया था कि रीना का मायका दिल्ली में ही है। इसके बावजूद दोनों दिल्ली में कभी अलग नहीं रहे। अगर रीना कभी अपने मायके गईं तो उसी दिन वापस आ जाती थीं। कभी रात नहीं रुकीं। क्योंकि उन्हें पासवान की चिंता लगी रहती थी।

बीमार पड़े तो किये तमाम जतन: बकौल पासवान, शादी के बाद वे एक तरीके से रीना पर निर्भर हो गए थे। कहीं बाहर जाना हो तो कपड़े आदि से लेकर दवाइयां आदि सबकुछ अटैची में वही रखती थीं। कौन सी दवा किस टाइम खानी है, सारी चीजें सहायक को बता देती थीं। या तो फोन पर याद दिलाती रहती थीं। पासवान जब बीमार पड़े थे तो रीना ने तमाम जतन किये थे। विशेष पूजा-अर्चना से लेकर गुणदोष और ज्योतिषीय सुझाव के आधार पर पति के लिए अंगूठी आदि भी बनवाई थी। गुरुद्वारे से लेकर मंदिर तक गईं।

Next Stories
1 क्या राहुल गांधी फेल हो गए इसलिए प्रियंका को राजनीति में लाया गया? सवाल पर प्रशांत किशोर ने दिया था ऐसा ज़वाब
2 Skin Care: ग्लोइंग स्किन पाने के लिए घर पर ही तैयार करें फेस पैक, मिल सकती है निखरी और खूबसूरत त्वचा
3 TMKOC: ‘बबीता जी’ के साथ बॉयफ्रेंड ने की थी मारपीट, कोर्ट तक पहुंच गया था मामला
ये पढ़ा क्या?
X