रोज़ाना अखबार पढ़ने से भी हो सकती है प्रीलिम्स की तैयारी, UPSC क्लियर कर IPS बनने वाले शाश्वत त्रिपुरारी ने साझा किया अनुभव

IPS अधिकारी शाश्वत त्रिपुरारी ने प्रीलिम्स की तैयारी के लिए कई टिप्स शेयर किए हैं। शाश्वत कहते हैं, रोज़ाना अखबार पढ़ने से भी कई चीजें क्लियर हो सकती हैं।

UPSC, IPS Officer, IAS Officer
IPS अधिकारी शाश्वत त्रिपुरारी (Photo- Shashwat Tripurari/Instagram)

UPSC क्लियर करने का सपना हर पढ़े-लिखे युवा का होता है, लेकिन इसमें सफलता बहुत कम लोगों को ही मिल पाती है। आज हम आपको शाश्वत त्रिपुरारी की कहानी बताएंगे। शाश्वत ने पहले ही प्रयास में यूपीएससी एग्जाम क्लियर कर लिया था। शाश्वत ने आईआईटी से ग्रेजुएशन की थी, लेकिन उनका सपना बचपन से ही सिविल सर्वेंट बनने का था। यही वजह थी कि उन्होंने ग्रेजुएशन के बाद बिना समय बेकार किए यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी।

प्रीलिम्स को लेकर स्ट्रेटेजी: उत्तर प्रदेश के प्रयागराज के रहने वाले शाश्वत को UPSC-2019 में 78वीं रैंक प्राप्त हुई थी। शाश्वत कहते हैं, अब यूपीएससी में पूछे जाने वाले सवालों का तरीका काफी बदल गया है। अब थोड़े छोटे सवाल पूछे जाते हैं, जिनका जवाब आपको सटीक ही देना चाहिए। कई बार आप जवाब को लंबा करते हैं तो गलती की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं और वो थोड़ा कंफ्यूजिंग भी हो सकता है। इसलिए कोशिश करें कि जवाब छोटा और सटीक ही रहे।

अखबार से भी हो सकती है तैयारी: करेंट अफेयर्स की तैयारी के लिए अखबार की मदद ले सकते हैं। अखबार को पढ़ने का भी एक तरीका होता है। अगर कोई नया कानून या कोई बड़ा हादसा हुआ है तो आपको हर चीज की जानकारी लेनी होती है। इसलिए आप बड़ी खबर पर थोड़ा रिसर्च करें। इस बारे में सभी का अपना मत हो सकता है जैसे कोई पेपर की जगह मंथली मैगजींस आदि पढ़ लेता हैं तो कोई इंटरनेट पर दिनभर की न्यूज का जो कंपाइलेशन आता है, वह पढ़ लेता है पर उनके हिसाब से अखबार की जगह कोई नहीं ले सकता और अखबार का काम अखबार से ही होता है।

अखबार के पहले पन्ने से करें पढ़ाई: शाश्वत बताते हैं, अखबार पढ़ने के लिए आपको उसका पहले पन्ने को सबसे ज्यादा ध्यान से पढ़ना चाहिए। इसी पन्ने पर सबसे ज्यादा जरूरी खबरें होती हैं। इससे अपने काम की खबरें निकाल लें और कोई बहुत जरूरी बिंदु हो तो कहीं नोट कर लें। कोई बड़ी डील जो दो देशों के बीच में क्रैक हुई हो, कोई बड़ा अविष्कार, कोई बड़ी घटना, दुघर्टना ऐसा कुछ भी मिले तो उसे ध्यान से पढ़ें। कई बार क्षेत्रीय खबरों पर कैंडिडेट्स ध्यान नहीं देते हैं।

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट