ताज़ा खबर
 

गर्भावस्था में महिलाओं को करना चाहिए आयोडीन का सेवन, नहीं तो बच्चे को हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां

आयोडीन शरीर में थायराइड हार्मोन्स को बनाता है। यह हार्मोन शरीर में हार्ट रेट और मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करता है। अगर बॉडी में आयोडीन की कमी हो जाए, तो इससे वजन बढ़ना और थकान जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

विटामिन-सी, विटामिन-बी, सेलेनियम, ओमेगा फैटी एसिड्स युक्त भोजन को अहमियत दें

हर महिला के जीवन में गर्भावस्था का समय बेहद ही खास होता है। क्योंकि, इस दौरान एक महिला को संपूर्ण नारी होने का अहसास होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को अपने खान-पान का ध्यान रखने की बेहद ही आवश्यकता होती है। क्योंकि, खाने का असर महिला के गर्भ में पल रहे शिशु पर भी पड़ता है। हेल्दी खानपान के साथ एक ऐसा तत्व है, जिसका गर्भवती महिलाओं को जरूर सेवन करना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं को आयोडीन का जरूर सेवन करना चाहिए। यह तत्व डेयरी प्रोडक्ट्स, मछली और अन्य फूड्स में पाया जाता है। आयोडीन शरीर को स्वस्थ रखने के साथ ही गर्भ में पल रहे शिशु के विकास को भी बढ़ावा देता है। ऐसे में महिलाओं को कंसीव करने से लेकर डिलीवरी तक के समय में आयोडीन का पर्याप्त मात्रा में सेवन करना चाहिएए।

गर्भवती महिलाओं को क्यों करना चाहिए आयोडीन का सेवन: आयोडीन शरीर में थायराइड हार्मोन्स को बनाता है। यह हार्मोन शरीर में हार्ट रेट और मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करता है। अगर बॉडी में आयोडीन की कमी हो जाए, तो इससे वजन बढ़ना और थकान जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

गर्भावस्था के दौरान आयोडीन शिशु के ब्रेन सेल्स यानी मस्तिष्क की कोशिकाओं को विकसित करता है। शरीर में आयोडीन की मात्रा से शिशु के कॉम्प्लेक्स ऑर्गन भी बनते हैं। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को आयोडीन युक्त फूड्स लेने की सलाह दी जाती है।

प्रेग्नेंट महिला को इतनी मात्रा में लेना चाहिए आयोडीन: महिलाओं को कंसीव करने के दौरान 150 माइक्रोग्राम, प्रेग्नेंसी में 220 और डिलीवरी के बाद 290 माइक्रोग्राम आयोडीन का नियमित तौर पर सेवन करना चाहिए।

एक रिपोर्ट के अनुसार गर्भवती महिलाओं को 1100 माइक्रोग्राम से ज्यादा की मात्रा में आयोडीन नहीं लेना चाहिए। क्योंकि, इससे हाइपोथायराइडिज्म समेत कई तरह की गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

-इन चीजों का कर सकती हैं सेवन:

डेयरी प्रोडक्ट्स और सफेद मछली: गर्भवती महिलाएं अपने खाने में डेयरी प्रोडक्ट्स और सफेद मछली को शामिल कर सकती हैं। हालांकि, याद रखें कि आयोडीन की मात्रा शरीर में बढ़ाने के लिए आपको ज्यादा नमक खाने की जरूरत नहीं है।

इसके अलावा फल-सब्जियों के साथ आप लो फैट योगर्ट, लो फैट मिल्‍क, फिश, अंडे, कॉर्न और सेब के जूस को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं।

Next Stories
1 Kitchen Hacks: प्याज काटते वक्त आंखों से निकलते आंसुओं से छुटकारा दिलाने में मददगार हैं ये टिप्स
2 Weight Loss: जीरा और अजवाइन से बना ये ड्रिंक वजन घटाने में हो सकता है असरदार, जानें दूसरे फायदे
3 राजीव गांधी के राजनीति में आने के सख्त खिलाफ थीं सोनिया गांधी, दे दी थी तलाक की धमकी; किताब में दावा
ये पढ़ा क्या?
X