ताज़ा खबर
 

प्रग्नेंसी के शुरुआती तीन महीने होते हैं बेहद खास, रखें इन बातों का ख्याल

गर्भवती महिला को शुरुआत के तीन महीनो में रखना होता है खास ख्याल, उन तीन महीनो में किन कामों को करने से बचना चाहिए।

यह चित्र प्रतीक के तौर पर लिया गया है

महिला के प्रग्नेंट होने के बाद शुरुआती तीन महीने बेहद खास होते हैं, इस दौरान महिला को केयर की काफी जरूरत होती है। इस दौरान महिला को खुद या उसके परिवार वाले को ख्याल रखना चाहिए। महिला को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अब उसे खुद की ही नहीं, बल्कि गर्भ में पल रहे बच्चे का भी ध्यान रखना है। प्रग्नेंसी के समय कई बार परेशानियों का सामना करना पड़ता है। प्रग्नेंसी के दौरान महिला को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसके अलावा अपनी जीवनशैली में सुधार करना चाहिए। गर्भवती महिला को भागदौड़, पेट के बल लेटना और पेट के बल व्यायाम आदि नहीं करना चाहिए। आज हम वो बातें लेकर आए हैं, जिनका महिला को प्रग्नेंसी के शुरुआती दिनों के दौरान ख्याल रखना होता है।

भारी सामान ना उठाएं- प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीनों में गलती से भी भारी सामान ना उठाएं, इससे पेट में दर्द की समस्या हो सकती है और ब्लीडिंग का खतरा भी हो सकता है।

गर्म चीजें ना खाएं- शुरुआती तीन महीनों में गर्म चीजों जैसे ड्राई फ्रूट्स का सेवन नहीं करना चाहिए, इससे ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। इनका परहेज करना ही बेहतर होता है।

पपीते का सेवन ना करें- इस दौरान कुछ फलों को भी त्यागना होगा। इनमें पपीता अहम है। माना जाता है की पपीते का सेवन करने से गर्भपात होने का खतरा बढ़ जाता है। इसमें विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है, जिसे एबॉर्शन हो सकता है।

मसालेदार खाना ना खाएं- मिर्च-मसाले और ऑयली खाने को प्रेग्नेंसी के समय अवॉयड करना ही बेहतर रहेगा। इसका ज्यादा मात्रा में सेवन करने से पेट के दर्द की समस्या हो सकती है।

इलायची- प्रेग्नेंसी के पहले तीन महीने में इलायची का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए। इलायची का चाय में भी सेवन नहीं करना ठीक रहेगा क्योंकि इससे गर्भ गिरने का खतरा रहता है।

कटहल- इस दौरान कटहल का प्रयोग नहीं करना चाहिए इसमें भी विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है जो एबॉर्शन का कारण बन सकती है। विटामिन सी प्रेग्नेंसी के शुरुआती समय के लिए काफी खतरनाक होता है। इसके सेवन से बचना चाहिए।

डॉक्टर के परामर्श बिना कोई दवाई ना लें- कई बार दर्द होने पर महिलाएं अपनी मर्जी से दवा ले लेती हैं, ऐसा करना गर्भवती के लिए खतरनाक हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह के बिना प्रेग्नेंसी के समय कोई दवाई ना लें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App