ताज़ा खबर
 

अगर हुई है सिजेरियन डिलीवरी तो इन बातों का रखना होगा ख्याल

सिजेरियन तकनीक से मां बनने के बाद महिलाओं को कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

गर्भवती महिलाओं के दर्द न सह सकने की वजह से सिजेरियन डिलीवरी की जरूरत पड़ती है। आजकल सिजेरियन तकनीक से बच्चे को जन्म देना आम होता जा रहा है। कभी कभी ऐसा होता है कि नॉर्मल डिलीवरी में कुछ कठिनाइयां आ जाती हैं। ऐसे में सिजेरियन डिलीवरी की जरूरत पड़ती है। सिजेरियन तकनीक से मां बनने के बाद महिलाओं को कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि सिजेरियन तकनीक से डिलीवरी होने के बाद आपको क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद घावों और ड्रैसिंग का खास ख्याल रखना पड़ता है। टांकों और घाव के ताजा होने की वजह से इंफैक्शन हो सकता है। इससे बचने के लिए कुछ दिन स्नान करने से परहेज करें। पहनने के लिए सूती कपड़ों का प्रयोग करें। अगर टांकों पर पानी पड़ जाए तो उसे सूती कपड़ों से हल्के हाथों से पोंछ दें। समय पर ड्रेसिंग जरूर करें। ऑपरेशन के बाद तुंरत चलना न शुरू करें। 4-6 हफ्ते तक पेडू पर खिंचाव घातक साबित हो सकता है। कुछ दिनों के लिए थोड़ा-थोड़ा और धीरे-धीरे करके चलना शुरू करें। इसके अलावा बच्चे को स्तनपान कराते रहने से गर्भाशय को सही स्थिति में आने में सहायता मिलती है। पहली बार स्तनपान करवाते समय नर्स की मदद ली जा सकती है।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं के शरीर का शेप थोड़ा बिगड़ जाता है। इसे बाद में एक्सरसाइज आदि के माध्यम से फिर शेप में लाया जा सकता है। ऑपरेशन के बाद सिजेरियन बेल्ट लगाने में थोड़ी दिक्कत होगी लेकिन यह लगाना भी जरूरी है। इसलिए धीरे-धीरे इसे लगाने की आदत डाल लें। कई लोगों का मानना है कि सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी होने की संभावना खत्म हो जाती है, जबकि ऐसा नहीं है। डॉक्टर्स बताते हैं कि सिजेरियन के बाद नॉर्मल डिलीवरी बिल्कुल संभव है लेकिन यह मरीज की स्थिति पर निर्भर करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App