ताज़ा खबर
 

Pregnancy के दौरान अपनी डाइट में जरूर शामिल करें ये 6 फूड्स, मां और बच्चे के लिए है जरूरी

डाइट में महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की कमी बच्चे के विकास को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी डाइट में क्या शामिल करना चाहिए-

प्रेग्नेंसी के दौरान अपने खान-पान का खास ध्यान रखें

गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है। प्रेग्नेंसी के दौरान, शरीर को अतिरिक्त पोषक तत्वों, विटामिन्स और मिनरल्स की आवश्यकता होती है। डाइट में महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की कमी बच्चे के विकास को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। खाने की गलत आदतें गर्भावस्था की जटिलताओं के खतरे को बढ़ा सकती है। ऐसे में हेल्दी और पौष्टिक फूड्स चुनने से आपको और आपके बच्चे के स्वास्थ्य को लाभ मिल सकता है। इसके अलावा हेल्दी डाइट वजन कंट्रोल करने में भी मदद कर सकता है। आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी डाइट में क्या शामिल करना चाहिए-

1. डेयरी प्रोडक्ट्स: डेयरी प्रोडक्ट, विशेष रूप से दही, गर्भवती महिलाओं के लिए एक बढ़िया विकल्प है। ये आपके शरीर में प्रोटीन और कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करने में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स प्रेग्नेंसी की जटिलताओं के जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकता है।

2. दाल: दाल फोलेट, फाइबर और कई अन्य पोषक तत्वों का महान स्रोत है। गर्भावस्था के दौरान फोलेट एक बहुत ही महत्वपूर्ण पोषक तत्व है और बर्थ डिफेक्ट्स और बीमारियों के जोखिम को भी कम कर सकता है।

3. शकरकंद: शकरकंद बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो प्रेग्नेंसी के दौरान मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। आपके बढ़ते भ्रूण में कोशिकाओं के विकास के लिए विटामिन ए और बीटा-कैरोटीन महत्वपूर्ण होता है।

4. साल्मन: साल्मन में आवश्यक ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है, जो आपके बच्चे के मस्तिष्क और आंखों के विकास के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह विटामिन डी का एक प्राकृतिक स्रोत भी है जो गर्भवति महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है।

5. अंडा: अंडा पौष्टिक होता है और आपके संपूर्ण पोषक तत्वों के सेवन को बढ़ाने का एक शानदार तरीका है। अंडे में प्रोटीन भी होता है, जो मस्तिष्क के स्वास्थ्य और विकास के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है।

6. एवोकाडो: एवोकाडो में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, फाइबर, फोलेट और पोटेशियम की उच्च मात्रा होती है। वे भ्रूण के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकता है और पैर की ऐंठन को भी राहत दे सकता है जो गर्भवती महिलाओं में आम है।

Next Stories
1 क्या आप जानते हैं प्रेग्नेंसी में कितना केसर खाना है फायदेमंद? जानिए इससे जुड़ी अन्य जानकारी
2 Pregnancy के दौरान अजवाइन पेट की समस्याओं से दिला सकती है निजात, जानिए कैसे करें डाइट में शामिल
3 ब्रेस्ट फीडिंग वाली महिलाएं इन बातों का जरूर रखें ध्यान, नहीं होगी कोई समस्या
ये पढ़ा क्या?
X