read here the tips to conceive with irregular periods - अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंसी को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं, आजमाइए एक्सपर्ट्स के ये टिप्स - Jansatta
ताज़ा खबर
 

अनियमित पीरियड्स में प्रेग्नेंसी को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं, आजमाइए एक्सपर्ट्स के ये टिप्स

अनियमित पीरियड्स में गर्भधारण करना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन कुछ उपाय आजमाकर आप अनियमित मासिक धर्म में भी गर्भधारण कर सकती हैं।

प्रतीकात्मक चित्र

अनियमित पीरियड्स में गर्भधारण करना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन कुछ उपाय आजमाकर आप अनियमित मासिक धर्म में भी गर्भधारण कर सकती हैं। नारायण ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स की लावण्या किरण और एमएजी जिला अस्पताल के अनिल प्रकाश इस बाबत कुछ सलाह देते हैं जिसे आपको जरूर आजमाना चाहिए।

खान-पान में संतुलन – पोषण से भरपूर और मल्टी -विटामिन से भरपूर खान-पान से हार्मोन्स और प्रजनन से संबंधित अनेक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। ऐसे में हमेशा संतुलित और हेल्दी डाइट फॉलो करने की कोशिश करनी चाहिए। विटामिन्स और फोलिक एसिड फर्टिलिटी बढ़ाने और जल्दी गरभधारण में काफी मददगार होती हैं। इसके लिए डाइट में सब्जी, पत्ता गोभी, केला, सोयाबीन, टमाटर और सूखे फलों को शामिल करें।

शारीरिक सक्रियता – नियमित व्यायाम अच्छे स्वास्थ्य के लिए तो सही है ही साथ ही अगर आप कंसीव करना चाहती हैं तो यह आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होता है। ब्रिस्क वॉक, योगा और साइकिलिंग शरीर में हार्मोनल असंतुलन को कम करते हैं जो कि अनियमित पीरियड्स के कारक होते हैं।

तनावमुक्त रहें – आपकी भावनाओं का सीधा संबंध आपके पीरियड्स से होता है। ऐसे में तनाव और अपर्याप्त नींद आपके मासिक चक्र को प्रभावित करता है। इसके लिए आप मेडिटेशन आदि से अपने मन को शांत और तनावमुक्त रखने की कोशिश करें।

लगातार संबंध बनाना – बहुत से लोग जल्दी गर्भधारण के लिए ज्यादा संबंध बनाने की सलाह देते हैं। बहुत ज्यादा मात्रा में शारीरिक संबंध बनाना भी सेहत के लिए सही नहीं है। ऐसे में जब अनियमित पीरियड की शिकायत हो तो पांच-छः दिन के फर्टाइल पीरियड में एक दिन छोड़कर संबंध बनाना गर्भधारण के लिए सही होता है।

डॉक्टर से सलाह लें – अगर आप पिछले 9 महीने से गर्भधारण की कोशिश कर रही हैं और कंसीव करने में सफल नहीं हो पा रही हैं तो आपको डॉक्टर से सलाह लेने की जरूरत है। ऐसा इसलिए ताकि अनियमित पीरियड्स के सही कारणों का पता लगाकर उसका इलाज कराया जा सके।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App