ताज़ा खबर
 

स्तनपान के दौरान इन 6 फूड्स से करें परहेज, बच्चे की सेहत हो सकती है खराब

अगर आप बच्चे को स्तनपान कराती हैं तो आपको अपनी डाइट पर खास ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे में कुछ ऐसे फूड्स होते हैं जिन्हें मां को नहीं खाना चाहिए।
प्रतीकात्मक चित्र

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को बहुत सारे एहतियात बरतने की सलाह दी जाती है। दिन भर की दिनचर्या से लेकर खान-पान और रात में सोने तक में गर्भवती महिलाएं काफी सावधानी बरतने की कोशिश करती रहती हैं और ये जरूरी भी होता है। ताकि होने वाले बच्चे की सेहत पर कोई बुरा सर न पड़े और वह सेहतमंद होकर ही दुनिया में आए। लेकिन डिलीवरी के बाद इन सावधानियों को लेकर एकदम शिथिल हो जाना भी सही नहीं है। जैसे अगर आप बच्चे को स्तनपान कराती हैं तो आपको अपनी डाइट पर खास ध्यान देने की जरूरत है। जन्म के बाद तकरीबन 6 महीने तक बच्चे को केवल स्तनपान करना बहुत जरूरी होता है। ऐसे में कुछ ऐसे फूड्स होते हैं जिन्हें मां को नहीं खाना चाहिए क्योंकि इन फूड्स के पोषक तत्व दूध के माध्यम से बच्चे के शरीर में जाकर उसे नुकसान पहुंचाते हैं। तो चलिए, जानते हैं कि ऐसे कौन से फूड्स हैं जिन्हें स्तनपान कराने वाली मां को नहीं खाना चाहिए।

खट्टे फल – खट्टे फल विटामिन सी के अच्छे स्रोत होते हैं। मां जब इन फलों का सेवन करती है तो दूध में अम्ल बनने लगता है। यह अम्ल दूध के साथ बच्चे के शरीर में जाता है जिससे उनका पेट खराब होने की संभावना बढ़ जाती है। इससे बच्चे चिड़चिड़े भी हो जाते हैं। इसलिए जब तक आप स्तनपान करा रही हैं तब तक खट्टे फलों से परहेज करें।

कॉफी – कॉफी में मौजूद कैफीन बच्चे की सेहत के लिए सही नहीं है। दूध के साथ मिलकर यह बच्चे में अनिद्रा और चिड़चिड़ेपन की समस्या को जन्म दे सकती है। इसके अलावा चॉकलेट में भी पर्याप्त कैफीन पाया जाता है। इसलिए चॉकलेट खाने से भी बचें।

लहसुन – स्तनपान कराने के दौरान अगर आप लहसुन खाती हैं तो काफी देर तक इसकी गंध दूध में रहती है जो नवजात शिशु के लिए नुकसानदेह है। बच्चों को लहसुन की गंध पसंद भी नहीं आती इसलिए लहसुन से जितना परहेज कर पाएं बेहतर है।

पुदीना – पुदीना मां के दूध के उत्पादन में कमी लाता है। इसलिए स्तनपान के दौरान पुदीने की पत्ती की चाय और पुदीने का पानी बिल्कुल न पिएं।

मूली और पत्तागोभी – मूली और पत्तागोभी खाने से महिलाओं में गैस और सीने में डलन की समस्या उत्पन्न होती है। साथ ही साथ शिशु में भी पाचन संबंधी दिक्कतें आनी शुरू हो जाती है।

ब्रोकली – मां जब ब्रोकली का सेवन करती है तो इससे बच्चे पर बुरा असर पड़ता है। दूध के माध्यम से ब्रोकली के पोषक तत्व जब शिशु के शरीर में जाते हैं तो इससे बच्चे को घबराहट और पेट में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए आप ब्रोकली को भाप में उबालकर खा सकती हैं। इससे बच्चे पर इसका असर कम पड़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.