ताज़ा खबर
 

प्री-मेच्योर नवजात शिशु के लिए संजीवनी है ‘कंगारू केयर’

नवजात शिशुओं के देखभाल की कंगारू विधि मां को इस बात का मजबूत आश्वासन भी देता है कि उनके बच्चे की देखभाल अच्छे से हो रही है।
कंगारू की तरह अपने बच्चे को अपनी स्किन से लगाकर रखने की वजह से ही इसे कंगारू केयर कहा जाता है।

समयपूर्व प्रसव के बाद नवजात शिशु के बेहतर स्वास्थ्य तथा उसे कई तरह की बीमारियों से बचाने के लिए एक खास तरह की तरकीब अपनाई जाती है। इसमें जन्म के कई दिनों बाद तक बच्चे को उसकी मां के शरीर के संपर्क में रखा जाता है। इससे समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों में होने वाली कई प्रकार की बीमारियों का खतरा टाला जा सकता है। बच्चों के देखभाल की इस विधि को कंगारू केयर कहते हैं। कंगारू की तरह अपने बच्चे को अपनी स्किन से लगाकर रखने की वजह से ही इसे कंगारू केयर कहा जाता है। यूं भी नवजात शिशु के लिए बाहर के वातावरण से सामंजस्य बिठा पाना काफी मुश्किल होता है, इसलिए उन्हें हर वक्त ढककर रखने की सलाह दी जाती है। समयपूर्व प्रसव से होने वाले बच्चों में इसकी आवश्यकता कुछ ज्यादा ही होती है।

समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों में वजन कम होने की समस्या अक्सर देखी जाती है। इसके साथ ही साथ उनके शीरीरिक विकास में कमी की समस्या भी होती है। एक शोध में कहा गया है कि दुनिया भर में हर साल लगभग 1 से डेढ़ करोड़ बच्चों का जन्म समय से पहले हो जाता है। इन बच्चों में लाखों बच्चे कई तरह की बीमारियों का शिकार होकर दम तोड़ देते हैं। ऐसे में इनकी देखभाल के लिए काफी ध्यान देने की जरूरत होती है। प्रीमेच्योर बच्चों में संक्रमण, पीलिया, लर्निंग डिसऑर्डर और सेरिब्रल पॉल्सी जैसी बीमारियों की संभावनाएं काफी प्रबल होती हैं। ऐसे बच्चों को नियंत्रित तापमान में रखने की जरूरत होती है।

प्रीमेच्योर बच्चों का वजन भी अन्य नवजात शिशुओं की तुलना में काफी कम होता है। समयपूर्व प्रसव से होने वाली इन समस्याओं से निपटने का प्रभावी उपाय देखभाल की कंगारू विधि होती है। कंगारू विधि में मां या पिता के शरीर के संपर्क में रहकर बच्चे का तापमान नियंत्रित रहता है। इसके साथ ही साथ उसके वजन में बढ़ोत्तरी भी होती है। बच्चे के दिल की धड़कन भी सामान्य तरीके से चलने लगती है। नवजात शिशुओं के देखभाल की कंगारू विधि मां को इस बात का मजबूत आश्वासन भी देता है कि उनके बच्चे की देखभाल हो रही है। मां की त्वचा के संपर्क में नवजात पर्याप्त नींद ले सकता है, जो कि उसकी सेहत के लिए बेहद जरूरी है। इसके अलावा कंगारू केयर मां और बच्चे के बीच भावनात्मक संबंधों को भी काफी मजबूत करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.