ताज़ा खबर
 

जल्दी प्रेग्नेंसी चाहती हैं तो शारीरिक संबंध बनाते समय ध्यान रखें ये बातें

संबध बनाते वक्त अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए और कुछ तरीके अपनाए जाएं तो इससे आपकी प्रेग्नेंसी की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ जाती हैं।

प्रतीकात्मक चित्र

शारीरिक संबंध बनाने के बाद भी अगर आप कंसीव नहीं कर पा रहीं हैं तो इसके पीछे कई तरह के कारण हो सकते हैं। शारीरिक अक्षमता ही गर्भधारण न होने का कारण नहीं होता। कई बार शारीरिक संबं बनाने के आपके तरीके भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं। गलत तरीके से संबंध बनाना, अनियमित और कम सेक्स करना आदि गर्भ धारण न कर पाने के ऐसे कारण होते हैं जिनके बारे में बहुत से कपल्स को जानकारी ही नहीं होती। और जब इन वजहों से कंसीव करने में दिक्कत आती है तो वे इसे सेक्शुअल डिसऑर्डर समझ परेशान होने लगते हैं जबकि ऐसा होता नहीं है। संबध बनाते वक्त अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए और कुछ तरीके अपनाए जाएं तो इससे आपकी प्रेग्नेंसी की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ जाती हैं। तो चलिए जानते हैं कि वे कौन से उपाय हैं जो आपको जल्दी मां बनने में मदद करते हैं।

1. जल्दी प्रेंग्नेंसी के लिए जरूरी है कि संबंध बनाते वक्त पुरुष अपना स्पर्म महिला की वेजिना में ज्यादा से ज्यादा गर्भाशय के नजदीक स्खलित करे। इससे बहुत कम मात्रा में स्पर्म गर्भाशय में जाने से बच पाते हैं और गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है।

2. संबंध बनाने के बाद महिला को पीठ के बल लेट जाना चाहिए और अपने पीठ के निचले हिस्से के नीचे तकिया लगा लेना चाहिए और इस अवस्था में तकरीबन 20-30 मिनट तक बने रहना चाहिए। इससे वेजिना गर्भाशय की ओर झुक जाता है और वीर्य आसानी से गर्भाशय में पहुंच जाता है।

3. संबंध बनाने के तुरंत बाद खड़े नहीं हो जाना चाहिए। ऐसा इसलिए कि सेक्स के तुरंत बाद अगर महिला खड़ी हो जाए तो गुरुत्वाकर्षण की वजह से स्पर्म गर्भाशय में नहीं जा पाता।

4. कुछ महिलाओं का ऐसा भी मानना है कि संबंध बनाने के तुरंत बाद पेशाब न करने से उन्हें कंसीव करने में मदद मिलती है। हालांकि इस बारे में बहुत से विशेषज्ञों का कहना है कि सेक्स के तुरंत बाद पेशाब करने से कई तरह के यौन रोगों से सुरक्षा मिलती है।

5. संबंध बनाने के बाद अपने दोनों पैर ऊपर की तरफ करके लेटने से भी कंसीव करने में मदद मिलती है। कई महिलाओं ने इस तरीके से कंसीव करने का दावा किया है।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App