ताज़ा खबर
 

प्रेग्नेंसी में हाई ब्लडप्रेशर होने से बढ़ सकता है दिल की बीमारी का खतरा 

हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें नसों में रक्त का प्रवाह बहुत तेजी से होने लगता है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

बदलती जीवनशैली का दुष्प्रभाव लोगों में ब्लडप्रेशर, शुगर और डायबिटीज जैसी बीमारियों के रूप में दिखाई पड़ता है। कम शारीरिक श्रम और व्यायाम की आदत न होने की वजह से आजकल लोगों में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या आम बात हो गई है। लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान अगर किसी महिला को हाइपरटेंशन की समस्या होती है तो यह सामान्य बात नहीं है। जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है उनमें आगे चलकर दिल की बीमारी होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें नसों में रक्त का प्रवाह बहुत तेजी से होने लगता है।

Paediatric & Perinatal Epidemiology नाम की पत्रिका में प्रकाशित एक शोध में यह कहा गया है कि जिन गर्भवती महिलाओं को हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है उनमें दिल संबंधी बीमारी का खतरा उन महिलाओं के मुकाबले दो गुना तक बढ़ जाता है जिन्हें प्रेग्नेंसी के दौरान हाईब्लड प्रेशर की शिकायत नहीं होती। ऐसी महिलाओं में प्रेग्नेंसी के बाद हाइपरटेंशन की बीमारी का खतरा भी 5-6 गुना0 तक बढ़ जाता है। शोध से जुड़े लोगों का कहना है कि इस अध्ययन में उन महिलाओं को दिल संबंधी बीमारियों से बचे रहने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया है जिन्हें प्रेग्नेंसी के दौरान हाइपरटेंशन की शिकायत थी।

शोध से जुड़े एक अन्य विशेषज्ञ का कहना है कि आधुनिक जीवनशैली से पैदा होने वाली इन बीमारियों में हमें अब उपचार आधारित समाधान से आगे बढ़कर इनकी रोकथाम के लिए प्रयास शुरू करना होगा। रेगुलर हेल्थ चेकअप, नमक और चीनी का कम प्रयोग, ज्यादा से ज्यादा श्रम करने की आदत को बढ़ावा देकर इस प्रकार की बीमारियों पर रोक लगाई जा सकती है। इसके अलावा हाई ब्लडप्रेशर जैसी लाइफस्टाइल डिसीज से बचने के लिए नियमित रूप से पोषक तत्वों से भरपूर फलों के सेवन के साथ रोजाना व्यायाम को अपनी आदत बना लेना चाहिए। सुविधा वाले संसाधनों का कम से कम प्रयोग करना चाहिए। मसलन – लिफ्ट का प्रयोग कम, सीढ़ियों का इस्तेमाल ज्यादा, कम दूरी के लिए वाहनों का प्रयोग कम आदि कुछ ऐसी आदते हैं जिन्हे बढ़ावा देकर इन बीमारियों को रोका जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App