गर्भावस्था के दौरान क्या आप भी झड़ते बालों से हैं परेशान? जानिए कैसे रखें बालों को हेल्दी

Hair Fall Tips: गर्भावस्था के दौरान बालों की देखभाल कर पाना उतना आसान नहीं होता लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो आपकी परेशानी दूर होगी

Lifestyle News, Hair Fall, Hair Loss
बाल झड़ने की समस्या से निजात दिलाने में कारगर है कलौंजी (फोटो क्रेडिट- Indian Express)

गर्भावस्था में महिलाओं के शरीर में कई बड़े बदलाव होते हैं। बदलते हार्मोन के कारण त्वचा व बालों से जुड़ी परेशानियां भी इस दौरान देखने को मिल सकती हैं। इसके पीछे स्ट्रेस, हार्मोन का उतार-चढ़ाव और कुछ दवाइयों के सेवन से बाल पतले हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं। जहां प्रेग्नेंसी में एस्ट्रोजन की उच्च मात्रा से कुछ महिलाओं के बाल मोटे और चमकदार हो जाते हैं। वहीं कुछ महिलाएं कई हेयर प्रॉब्लम्स से भी जूझती हैं।

गर्भावस्था के दौरान हेयर फॉल की समस्या से निजात पाने के लिए कई महिलाएं महंगे शैम्पू का इस्तेमाल करती हैं लेकिन उससे कोई खास फर्क नहीं पड़ता। आइए जानते हैं कि बालों को मजबूत बनाने के लिए क्या कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखना चाहिए। विशेष तौर पर बदलते मौसम के साथ यह बेहद आवश्यक हो जाता है कि प्रेग्नेंट महिलाएं अपनी सेहत का खास ध्यान रखें ताकि उन्हें सर्दी, खांसी, गला खराब और बाल झड़ने जैसी परेशानियों से बचाया जा सके।

कारण: एक्सपर्ट्स बताते हैं कि कुछ मामलों में महिलाओं को डिलीवरी के एक से तीन महीने बाद भी बाल झड़ सकते हैं। इसके अलावा, बर्थ कंट्रोल पिल्स, मिसकैरेज, एबॉर्शन या स्टिलबर्थ के कारण भी बाल गिरने लगते हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर से उच्च मात्रा में एस्ट्रोजेन निकलता है यह कुछ महिलाओं के लिए बेहद हानिकारक भी साबित हो सकता है।

बाल झड़ना इसी का एक साइड इफेक्ट है, हार्मोनल बदलाव के कारण हेयर फॉलिकल्स सेंसेटिव हो जाते हैं। जिसकी वजह से बाल बिल्कुल पतले हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं। इस स्थिति को ‘telogen effluvium’ कहते हैं जो गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पहली तिमाही में हो सकती है।

कैसे रखें बालों का ख्याल: सामान्यतः गर्भवती महिलाएं जिन शैम्पू और कंडीशनर का उपयोग करती हैं उनमें पाराबेंस, प्रीजर्वेटिव्स और खुशबू मिले होते हैं। शैम्पू करते वक्त यह जड़ों में जाने लगते हैं और बालों को नुकसान पहुंचता है। विशेषज्ञों के मुताबिक महिलाओं को ऐसे हेयर प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से परहेज करना चाहिए। एक्सपर्ट्स के अनुसार जिन हेयर प्रोडक्ट्स में हार्श क्लीनजर, ऑयल और सैलिसिलिक एसिड पाया जाता है उनके इस्तेमाल से बचना चाहिए।

गर्भवती महिलाएं अपने प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेटनिंग या परमिटिंग ट्रीटमेंट बिलकुल न करवाएं, इनमें फॉर्मल्डिहाइड होता है जिसे गर्भावस्था के दौरान असुरक्षित माना जाता है। गर्भावस्था में अगर आप अपने हेयर प्रोडक्ट्स को बदलना चाहते हैं तो पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें उसके बाद ही कोई बदलाव करें।

पढें प्रेग्‍नेंसी समाचार (Pregnancyinhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट