X

प्रेग्नेंसी में खाने से बचें ये चीजें, सीने में जलन की हो सकती है शिकायत

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का शरीर कई तरह के शारीरिक तथा हार्मोनल बदलावों से होकर गुजरता है। ऐसे में उन्हें अपनी सेहत को लेकर थोड़ा सतर्क रहना चाहिए।

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का शरीर कई तरह के शारीरिक तथा हार्मोनल बदलावों से होकर गुजरता है। ऐसे में उन्हें अपनी सेहत को लेकर थोड़ा सतर्क रहना चाहिए। इस दौरान सेहत के प्रति थोड़ी सी भी लापरवाही आपको बीमार बना सकती है। गलत खान-पान की वजह से गर्भावस्था के दौरान हार्टबर्न यानी कि सीने में जलन की शिकायत होती है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि आप सही, संतुलित और स्वस्थ डाइट की ओर कदम बढ़ाएं। आज हम आपको कुछ ऐसे फूड्स के बारे में बताने वाले हैं जिनका सेवन आपको प्रेग्नेंसी में नहीं ही करना चाहिए।

चॉकलेट – प्रेग्नेंट महिला को चॉकलेट के सेवन से परहेज करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान ज्यादा मात्रा में चॉकलेट का सेवन करने से सीने में जलन और अपच जैसी शिकायत हो सकती है। इसके अलावा चॉकलेट थियोब्रोमीन से भरपूर होता है। यह भी सीने में जलन के लिए जिम्मेदार होता है।

लहसुन – लहसुन में फ्रक्टेन्स नाम का पदार्थ पाया जाता है। यह अगर ठीक से पचे नहीं तो अपच की समस्या को बढ़ा देता है। गर्भावस्था में महिलाओं का पाचन तंत्र वैसे ही तनाव में होता है। ऐसे में अगर लहसुन का सेवन किया जाए तो यह हार्टबर्न की समस्या बढ़ाने वाला साबित हो सकता है।

पनीर – पनीर गर्भावस्था में नहीं खाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें काफी मात्रा में फैट होता है। यह पचने में काफी वक्त लेता है। ऐसे में महिला के पेट पर दबाव काफी बढ़ जाता है। जो सेहत के लिए कतई सही नहीं है। ऐसे में सीने में जलन की समस्या हो जाती है।

मसालेदार खाना – मसालेदार खाना प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सेहतमंद नहीं होता। यह भी सीने में जलन की वजह बनता है। साथ ही हरी मिर्च, काली मिर्च और शिमला मिर्च आदि को कच्ची अवस्था में खाना भी नुकसानदेह हो सकता है। खाने में इनकी बहुत थोड़ी मात्रा इस्तेमाल की जा सकती है।

एल्कोहल – एल्कोहल का इस्तेमाल भ्रूण के विकास में तो बाधक होता ही है साथ ही यह महिलाओं में हार्टबर्न की समस्या को बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान इनके सेवन से पूरी तरह परहेज करना चाहिए।