X

प्रेग्नेंसी में जीरे के पानी का सेवन महिलाओं को इन तकलीफों से दिला सकता है छुटकारा

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का शरीर तमाम तरह के बदलावों से होकर गुजरता है। इस दौरान मां को अतिरिक्त पोषण की जरूरत पड़ती है।

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का शरीर तमाम तरह के बदलावों से होकर गुजरता है। इस दौरान मां को अतिरिक्त पोषण की जरूरत पड़ती है। बच्चे के विकास के लिए यह बहुत जरूरी है। इसके अलावा प्रेग्नेंट महिला को कई तरह की स्वास्थ्य दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसमें ब्लड प्रेशर, एनीमिया, कब्ज इत्यादि प्रमुख हैं। जीरा इन समस्याओं को जड़ से खत्म करने की क्षमता रखता है। आइए, जानते हैं कि प्रेग्नेंसी की किन-किन समस्याओं में जीरा किस तरह इस्तेमाल किया जा सकता है और कैसे लाभ पहुंचा सकता है।

एनीमिया से बचाव – गर्भवती महिला को अक्‍सर एनीमिया होने की शिकायत हो जाती है। जीरे में आयरन की भरपूर मात्रा होती है जिससे महिला में आयरन की कमी पूरी हो जाती है और हीमोग्‍लोबिन बढ़ जाता है। हर दिन जीरा पानी पीने से स्‍वास्‍थ्‍य उत्‍तम बना रहता है क्‍योंकि शरीर में रक्‍त की कमी नहीं होती है। आयरन की वजह से महिला को सांस आदि लेने में कोई दिक्‍कत नहीं होती है।

ब्लड प्रेशर रखे कंट्रोल – जीरे में पोटैशियम की अच्छी मात्रा होती है। पोटैशियम एक ऐसा तत्व है जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है। प्रेग्नेंसी में ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहना बहुत जरूरी है।

गैस और कब्ज से आराम – जीरे का पानी पीने से पेट की अकड़न ढीली पड़ जाती है और मल त्‍याग करने में कोई समस्‍या नहीं होती है। कब्‍ज की समस्‍या से पूरी तरह से छुटकारा सिर्फ इसे पीने से ही मिल जाता है। पेट में होने वाले दर्द और ऐंठन में भी आराम मिलती है। जीरा पानी पीने से गैस पास होने में भी मदद मिलती है और शरीर की विषाक्‍तता भी निकल जाती है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता रखे दुरुस्त – जीरे में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मददगार है। आयरन, पोटैशियम और दूसरे लवणों के अलावा इसमें विटामिन ए, सी और एंटी-ऑक्‍सीडेंट की भी अच्छी मात्रा होती है।

कैसे करें सेवन – इसे बनाने के लिए आपको 3 चम्‍मच जीरा और 1.5 लीटर पानी की जरूरत पड़ेगी। सबसे पहले जीरा और पानी को मिला लें और इसे पांच मिनट तक उबालें। अब इस मिश्रण को छान लें। ठंडा होने पर इसे एक बोतल में भर लें। पूरा दिन थोड़ा – थोड़ा करके पिएं। हर दिन ताजे पानी में बनाकर ही पिएं।

Outbrain
Show comments