ताज़ा खबर
 

ब्रेस्टफीडिंग करवा रहीं महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद है अदरक वाली चाय, जानिए क्या मिलता है लाभ

स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को स्वस्थ फूड्स का सेवन करना आवश्यक होता है क्योंकि इससे उसके बच्चे का स्वास्थ्य जुड़ा होता है। ऐसे में अदरक वाली चाय उनके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान अदरक वाली चाय पिएं (Source: File Photo)

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान बहुत सी बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है क्योंकि इसका सीधा प्रभाव आपके बच्चे पर पड़ता है। अगर आप कुछ भी अस्वस्थ खाती हैं तो उससे आपके बच्चे का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। तो ऐसे में आपको अपने खान-पान का खास ध्यान रखने की जरूरत है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान आपको पोषक तत्व वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना आवश्यक होता है ताकि उसके माध्यम से आपके बच्चे को भी पोषक तत्व मिलें और आपका बच्चा स्वस्थ रहे। ऐसे में अदरक वाली चाय ब्रेस्टफीडिंग के दौरान बच्चे और मां दोनों के स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है। अदरक वाली चाय ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ब्रेस्ट मिल्क के उत्पादन को भी बढ़ाता है। आइए जानते हैं ब्रेस्टफीडिंग के दौरान अदरक की चाय का सेवन करना क्यों बेहतर होता है।

मिचली की समस्या को कम करता है:
स्तनपान के दौरान महिलाओं को मिचली की समस्या होती है। एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण अदरक की चाय मिचली की समस्या से लड़ने में मदद करती है और मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों को भी रोकने में मदद करती है। सुबह में अदरक वाली चाय पीने से मिचली की समस्या को रोका जा सकता है।

डाइजेशन को बेहतर करता है:
स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को पेट से जुड़ी समस्या हो जाती है जैसे- कब्ज, दस्त, ब्लोटिंग और गैस। इसके अलावा उन्हें खाना पाचने में भी परेशानी होने लगती है। अदरक वाली चाय में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो बैक्टीरिया और कीटाणु से लड़ने में मदद करते हैं और इंफेक्शन को भी कम करते हैं। इस प्रकार अदरक वाली चाय ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए बेहतर होता है।

सूजन के लिए:
अदरक वाली चाय में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो स्तनपान करवाने वाली महिलाओं की हड्डियों और मांसपेशियों में होने वाले दर्द को कम करने में मदद करते हैं। साथ ही पैरों में होने वाली सूजन को भी कम करते हैं।

ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करता है:
अदरक वाली चाय में मिनरल्स, विटामिन और अमिनो एसिड होता है जो स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के बल्ड सर्कुलेशन को बेहतर करता है। इसके अलावा ये हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे को भी कम करता है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भीगे बादाम खाकर प्रेग्नेंसी में खुद को फिट रखती थीं नेहा धूपिया, जानिए और टिप्स
2 प्रेग्नेंसी के बाद भी मलाइका अरोड़ा ने खुद को इस तरह रखा है फिट, आप भी कर सकती हैं ट्राय
3 प्रेग्नेंसी के बाद भी ऐश्वर्या ने कैसे रखा खुद को फिट, जानिए कुछ टिप्स
ये पढ़ा क्या?
X