ताज़ा खबर
 

वायु प्रदूषण से किशोरियों में हो सकता है मासिक धर्म के अनियमित होने का खतरा!

किशोरियों में वायु प्रदूषण से मासिक धर्म की अनियमितता थोड़ी बढ़ जाती है और इसे नियमित होने में काफी लंबा समय लगता है।

प्रतीकात्मक चित्र

मासिक धर्म महिलाओं में होने वाली एक सामान्य प्रक्रिया है। हर महीने तीन से पांच दिनों तक चलने वाली इस प्रक्रिया में महिलाओं में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। इस वजह से उन्हें काफी तकलीफों का भी सामना करना पड़ता है। माहवारी के दिनों में ही महिलाओं की गर्भधारण क्षमता बढ़ती है। माहवारी की प्रक्रिया 12 साल की उम्र से लेकर मीनोपॉज तक चलती है। इस बीच कई बार माहवारी तय समय पर नहीं आती। इसे अनियमित माहवारी कहा जाता है। इसके पीछे कई वजहें हो सकती हैं। हाल ही में भारतीय मूल के एक शोधकर्ता के नेतृत्व में न्यूयॉर्क में हुए एक शोध में यह बताया गया है कि वायु प्रदूषण किशोरियों में अनियमित पीरियड्स की वजह हो सकते हैं।

शोध के मुताबिक हवा में बढ़ते प्रदूषण स्तर की वजह से किशोरियों में अनियमित मासिक धर्म का खतरा बढ़ जाता है। इस बाबत शोधकर्ताओं का कहना है कि किशोरियों में वायु प्रदूषण से मासिक धर्म की अनियमितता थोड़ी बढ़ जाती है और इसे नियमित होने में काफी लंबा समय लगता है। इसके अलावा शोधकर्ताओं ने यह भी चेताया है कि वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बांझपन, मेटाबॉलिक सिंड्रोम व पॉलीस्टिक ओवरी सिंड्रोम का भी खतरा बढ़ जाता है। बोस्टन विश्वविद्यालय की सहायक प्रोफेसर श्रुति महालिंग्या ने कहा कि “वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने से दिल संबंधी, पल्मोनरी रोग होने की संभावना होती है। लेकिन यह शोध अलग तंत्रों के प्रभावित होने के बारे में भी सुझाव देता है, जिसमें प्रजनन अंतस्रावी तंत्र शामिल हैं।”

मासिक धर्म हार्मोन्स के नियमन से जुड़ा मामला है। ऐसे में वायु प्रदूषण के पार्टिकुलेट मैटर हार्मोन्स की क्रिया पर बुरा असर डालते हैं। हार्मोन्स पर प्रदूषण के पड़ने वाले इस प्रभाव की वजह से माहवारी अनियमित हो सकती है। शोध में हालांकि यह पता नहीं लगाया जा सका है कि वायु प्रदूषण से मासिक धर्म के अनियमित होने का सीधा संबंध है या नहीं, लेकिन हार्मोन्स के प्रभावित होने की वजह से ऐसा अनुमान लगाया जा सकता है कि यह माहवारी को प्रभावित कर सकता है। अनियमित माहवारी यूं तो महिलाओं में होने वाली एक आम समस्या है लेकिन इस वजह से किसी गंभीर बीमारी की संभावना होती है।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App