ताज़ा खबर
 

Pregnancy की तीसरी तिमाही में किन बातों का रखें ध्यान, जानें कैसा होना चाहिए डाइट प्लान

Pregnancy Diet Tips: प्रेग्नेंसी के अंतिम तीन महीनों में कीवी खाना बेहद लाभप्रद हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें विटामिन के प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है

pregnancy, last trimester of pregnancy, pregnancy in hindi, pregnancy dietसातवें और आठवें महीने में गर्भवती महिलाएं व परिवारजनों को लगातार चिकित्सक के संपर्क में रहना चाहिए

Tips for Pregnant Women: गर्भावस्था के दौरान महिलाएं कई नई बातों का अनुभव करती हैं। इस समय महिलाओं की अपनी सेहत के प्रति जिम्मेदारी अधिक बढ़ जाती है। इसका कारण है कि उनको खुद के साथ अपने गर्भ में पल रहे शिशु का भी ख्याल रखना पड़ता है। इन नौ महीनों में उनमें कई प्रकार के शारीरिक, मानसिक व भावनात्मक बदलाव आते हैं। पहली तिमाही में जहां जी मचलाने या फिर मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी होती है वजन बढ़ने से लेकर बॉडी फिगर बदलने से भी गर्भवती महिलाएं प्रभावित होती हैं। वहीं, आखिरी के तीन महीनों में अधिक दर्द, तकलीफ और सूजन की समस्या देखने को मिलती है। ऐसे में आइए जानते हैं कि अंतिम तिमाही में कैसे रखना चाहिए गर्भवती महिलाओं का ध्यान –

क्या खाना है फायदेमंद: तीसरी तिमाही में शिशु का वजन बढ़ता है और विकास की गति भी तेज होती है। इस दौरान महिलाओं का वजन भी ज्यादा बढ़ता है। ऐसे में संतुलित व सेहतमंद भोजन करना जरूरी है। इसके अलावा, शरीर में  रक्तस्त्राव को रोकने में मदद के लिए खून के थक्के बनना जरुरी है और विटामिन-के इसमें मदद करता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के अंतिम तीन महीनों में कीवी खाना बेहद लाभप्रद हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें विटामिन के प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है। इसके साथ ही डाइट में आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने की भी सलाह दी जाती है।

डॉक्टरों से करें नियमित संपर्क: हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि सातवें और आठवें महीने में गर्भवती महिलाएं व परिवारजनों को लगातार चिकित्सक के संपर्क में रहना चाहिए। साथ ही, अंतिम तिमाही में कुछ दिनों के अंतराल पर डॉक्टर्स सोनोग्राफी कराने की सलाह दे सकते हैं। इससे शिशु का वजन, बच्चेदानी के अंदर का पानी और गर्भनाल की स्थिति जांची जा सकती है।

किन एक्सरसाइज को करने की है इजाजत: अमेरिकन कांग्रेस ऑफ ऑब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट के मुताबिक तीसरी तिमाही में स्वस्त महिलाएं एक्सरसाइज कर सकती हैं। हालांकि, किसी भी व्यायाम के अभ्यास से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लेनी चाहिए। इस दौरान पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज, पिलेट्स, कीगल एक्सरसाइज जैसे व्यायाम महिलाएं कर सकती हैं। इसके अलावा, ध्यान करना या  फिर वॉक करना भी महिलाओं के लिए फायदेमंद होगा।

तैयार रखें मैटरनिटी बैग: तीसरी तिमाही शुरू होते ही मैटरनिटी बैग तैयार करना जरूरी होता है। महिलाएं चाहें तो खुद या फिर अपनी देखरेख में किसी और से इसे तैयार करवा सकती हैं। इस बैग में सामान रखने से पहले उन चीजों की सूची तैयार कर लें जिसकी जरूरत आपको अस्पताल में या फिर प्रसव के बाद पड़ सकती है। आमतौर पर मैटरनिटी बैग में कपड़े, चप्पल, जरूरी डॉक्यूमेंट्स, टूथब्रश-पेस्ट और साबुन रखे जाते हैं। इसके  अलावा, शिशु के लिए कुछ जरूरी चीजों को भी आप इसमें जगह दे सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Weight Loss: सर्दियों में वजन घटाने के लिए कौन से सूप हैं लाभदायक, जानिये
2 क्लासिकल म्यूजिक और गजलों की शौकीन लेकिन लाइमलाइट से रहती हैं दूर; जानिये क्या करती हैं उद्धव ठाकरे की पत्नी
3 TMKOC: अपने पैशन को फॉलो कर एक्टर बनीं बबीता जी उर्फ मुनमुन दत्ता, एक दिन की लेती हैं इतनी फीस
ये पढ़ा क्या?
X