scorecardresearch

Post-abortion care: गर्भपात के बाद बरती जाने वाली महत्वपूर्ण सावधानियां, जानिए कैसा होना चाहिए आपका डाइट चार्ट

Food You Should Eat After an Abortion: आइए जानते हैं कि गर्भपात के बाद आपको क्या खाना चाहिए या क्या परहेज करना चाहिए?

Post-abortion care: गर्भपात के बाद बरती जाने वाली महत्वपूर्ण सावधानियां, जानिए कैसा होना चाहिए आपका डाइट चार्ट
गर्भपात प्रक्रिया के बाद कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। (Image: Freepik)

गुरुवार 29 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि अविवाहित लड़कियों/महिलाओं को भी गर्भपात का अधिकार है। कोर्ट ने कहा कि विवाहित महिलाओं की तरह अविवाहित महिलाएं भी मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (MTP) एक्ट के तहत 24 सप्ताह तक बिना किसी की अनुमति के गर्भपात करा सकती हैं। गर्भपात शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों स्तरों पर दर्दनाक होता है। गर्भपात के बाद महिलाओं को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। आइए जानें कि गर्भपात के बाद देखभाल कैसे करें-

एक अच्छा और संतुलित आहार लें

संतुलित आहार खाना हमेशा आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, लेकिन जब आप ठीक हो रहे होते हैं तो यह और भी महत्वपूर्ण होता है। सुनिश्चित करें कि गर्भपात के बाद आपके आहार में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, आयरन, बी विटामिन और कैल्शियम शामिल हैं क्योंकि आपके शरीर को ठीक होने के लिए इनमें से बहुत से की आवश्यकता होगी। फल और सब्जियां, साबुत अनाज, और कैल्शियम और आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ आपके लिए विशेष रूप से अच्छे हो सकते हैं। गर्भपात के बाद महिलाओं को अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, अदरक, लहसुन, तिल, सूखे मेवे, दूध शामिल करना चाहिए। वहीं जंक, प्रोसेस्ड फूड और शुगर ड्रिंक्स से बिल्कुल भी बचें। साथ ही डॉक्टर से सलाह लेने के बाद विटामिन डी, आयरन और कैल्शियम जैसे सप्लीमेंट्स भी लें।

शरीर में पानी की कमी न होने दें

गर्भपात के बाद शरीर में पानी की कमी हो सकती है। इसलिए हाइड्रेटेड रहना आपके स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, खासकर जब आपका शरीर गर्भपात से उबर रहा हो। सुनिश्चित करें कि आप बहुत सारे तरल पदार्थ ले रहे हैं। जब आप अच्छी तरह से हाइड्रेट होते हैं, तो आपके पेशाब का रंग हल्का पीला होना चाहिए। यदि यह गहरा पीला है, तो आपको अधिक पानी पीना शुरू कर देना चाहिए। कोशिश करें कि हाइड्रेटेड रहने के लिए गुनगुना पानी पिएं।

पाचन संबंधी दुष्प्रभावों से सावधान रहें

कुछ महिलाओं को गर्भपात के बाद मतली, कब्ज या दस्त जैसे दुष्प्रभावों का अनुभव हो सकता है। ऐसा आपके शरीर में हो रहे सभी हार्मोनल परिवर्तनों के कारण होता है। यदि आप प्रभावित हैं तो आप लक्षणों को दूर करने के लिए अपने डाइट में बदलाव कर सकते हैं, उदाहरण के लिए यदि आपको कब्ज है तो ऐसे खाद्य पदार्थों से परहेज करें जो आपको बीमार महसूस कराते हैं।

भारी काम न करें

गर्भपात के बाद कपड़े धोने, बर्तन धोने और पानी की बाल्टी उठाने जैसे भारी काम से बचें। इस दौरान आपको पर्याप्त आराम की जरूरत होती है। साथ ही कम से कम आठ घंटे की नींद जरूर लें।

शरीर की मालिश करें

विश्राम के साथ-साथ शरीर की मालिश करना भी अच्छा रहेगा। इसके लिए आप सरसों या तिल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इन सबके अलावा आपका शांत और तनाव मुक्त रहना बहुत जरूरी है।

डाइट में करें इन चीजों का सेवन

कैल्शियम: टोफू, सूखे मेवे, समुद्री भोजन, दूध, डेयरी उत्पाद और हरी पत्तेदार सब्जियां
आयरन और विटामिन सी: पालक, खजूर, कद्दू और चुकंदर
फोलिक एसिड: एवोकाडो, बादाम और अखरोट जैसी चीजें
साबुत अनाज: ब्राउन राइस, क्विनोआ, ओट्स
वसायुक्त दूध: मक्खन, पनीर, कच्चा दूध

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 02-10-2022 at 11:45:51 am
अपडेट