रोटी, कपड़ा, मकान नहीं, आपके लिए हिंदू-मुसलमान मुद्दा हो गया है? संदीप चौधरी ने ओवैसी से पूछा सवाल तो दिया था ऐसा जवाब

AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी से योगी आदित्यनाथ और उनकी राजनीति को लेकर सवाल पूछा गया था। इसके जवाब में उन्होंने ऐसा कहा था।

Asaduddin Owaisi, AIMIM Chief
AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Express Archive Photo)

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक आने के बाद बयानबाजी भी तेज होती जा रही है। अखिलेश यादव के जिन्ना वाले बयान के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि उन्हें पहले इतिहास के बारे में थोड़ा पढ़ लेना चाहिए। ओवैसी ने साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी एक बार फिर यूपी की सियासत में अपना हाथ आजमाने जा रही है। बिहार में 5 सीटें जीतने के बाद उन्हें विश्वास है कि इस बार यूपी में भी उनकी पार्टी को जनसमर्थन मिलेगा। राजनीतिक अटकलों के बीच वरिष्ठ पत्रकार संदीप चौधरी के साथ असदुद्दीन ओवैसी का एक पुराना इंटरव्यू सामने आया है।

वायरल हो रहे इंटरव्यू में ओवैसी से संदीप चौधरी ने कई तीखे सवाल पूछे थे। उनसे पूछा गया था, ‘आपकी बातों से लग रहा है कि यूपी में इस बार रोटी, कपड़ा, मकान नहीं बल्कि हिंदू-मुसलमान मुद्दा हो गया है?’ इसके जवाब में ओवैसी ने कहा था, ‘मैं आपको चैलेंज करता हूं कि बीजेपी के किसी नेता से पूछिए कि 3-4 साल में एक घर बताइए जो मुस्लिमों को दिए।’ संदीप चौधरी अगला सवाल करते हैं, ‘योगी आदित्यनाथ तो ताल ठोकते हैं कि हमने 42 लाख मकान दिए और उसमें 28 फीसद मुसलमानों को गए हैं।’

असदुद्दीन ओवैसी ने जवाब दिया था, ‘क्या बात करते हैं योगी जी भी। मकान सिर्फ अलॉट हुए हैं, लेकिन 10 मकान भी बता दें जो मुस्लिम परिवारों को मिले हैं। योगी आदित्यनाथ तो बहुत लंबी-लंबी छोड़ते हैं। उन्होंने तो ये भी कहा कि यूपी में कोई सांप्रदायिक घटना नहीं हुई। अब इससे बड़ा झूठ कौन बोलेगा? महिलाओं के साथ भी लगातार अत्याचार हो रहे हैं। पता नहीं योगी जी कौन-सी दुनिया की बात कर रहे हैं। अब जब आप इन सब चीजों के बारे में पूछेंगे तो योगी जी कहेंगे- अब्बाजान। उत्तर प्रदेश में हर कोई धार्मिक मुद्दों को उठा रहा है, लेकिन स्कूल की कोई बात नहीं कर रहा है।’

योगी आदित्यनाथ ने नहीं पहनी थी टोपी: असदुद्दीन ओवैसी से एक इंटरव्यू में सवाल किया गया था, ‘योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में मुस्लिम टोपी पहनने से मना कर दिया था क्योंकि वो एक योगी हैं? आप इस पर क्या कहना चाहेंगे?’ ओवैसी ने कहा था, ‘अगर मैं वहां पर होता तो कभी योगी आदित्यनाथ से मुस्लिम टोपी पहनने के लिए नहीं कहता। मैं उनसे कहता कि प्रदेश में मुस्लिमों के खिलाफ जो भी जुल्म हो रहे हैं, उसमें आप इंसाफ कर दीजिए। वैसे भी वो 70 सालों से हमें टोपी पहना ही रहे हैं तो अब क्या ही फर्क पड़ता है इससे।’

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट