आप भी मोदी जी की तरह चुनाव प्रचार हेलीकॉप्टर से करने लगे हैं? भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने इस सवाल पर दी थी ये सफाई

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद से पूछा गया था कि अब वह भी हेलीकॉप्टर से चुनाव प्रचार करने लगे हैं। इसके जवाब में उन्होंने कहा था, ‘ऐसा हम ज्यादा दूरी के कारण कर रहे हैं।’

Chandrashekhar Azad, Bhim Army
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में जारी सियासी हलचल के बीच भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद ने साफ कर दिया है कि वह इस चुनाव में पूरी तैयारी से उतरेंगे और फिलहाल किसी पार्टी से गठबंधन नहीं करेंगे। इसके अलावा चंद्रशेखर ने बताया कि उनकी आजाद समाज पार्टी यूपी के अलावा दिल्ली नगर निगम चुनाव में भी हुंकार भरेगी। उन्होंने पार्टी के लिए प्रचार करना भी शुरू कर दिया है। एक इंटरव्यू उनसे चुनाव प्रचार को लेकर सवाल भी पूछा गया था।

‘द लल्लनटॉप’ के साथ इंटरव्यू में उनसे पूछा गया था, ‘आप संगठन की बात कर रहे हैं। राहुल गांधी, नरेंद्र मोदी और मायावती पर आरोप लगता है कि ये लोग हेलीकॉप्टर की पॉलिटिक्स करते हैं और ये जमीन से कनेक्ट नहीं हैं। अब सवाल है कि क्या चंद्रशेखर आजाद भी इतने बड़े नेता हो गए हैं कि आप हेलीकॉप्टर से प्रचार कर रहे हैं।’ इसके जवाब में उन्होंने कहा था, ‘जैसा इस समय प्रदेश में सड़कों का हाल है। ऐसे में ये संभव नहीं है कि हर जगह आसानी से पहुंचा जा सके। अब जहां भी हमारे प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं तो ये उनकी मांग है कि मैं उनके प्रचार के लिए जाऊं।’

चंद्रशेखर आजाद कहते हैं, ‘कई बार दूरी बहुत ज्यादा हो जाती है तो हमें हेलीकॉप्टर का उपयोग करना पड़ता है। ऐसा सिर्फ मैं ही नहीं करता हूं, समय कम होने के कारण मेरी पार्टी के अन्य सदस्य भी हेलीकॉप्टर से जाते हैं। अभी मैं गाड़ी से चल रहा हूं। अगर जरूरत पड़ती है तो मैं आगे मोटरसाइकिल से भी जाऊंगा। जनता भी चाहती है कि वो जिस पार्टी को वोट देने का मन बना रहे हैं तो उनका नेता आकर खुद उनसे वायदा करे। अब इतने बड़े राज्य में कई बार ये संभव नहीं होता है कि हर जगह आराम से पहुंचा जाए।’

आरक्षण क्यों चाहिए? एक अन्य इंटरव्यू में चंद्रशेखर आजाद से आरक्षण के मुद्दे पर भी सवाल किया गया था। उनसे पूछा था, ‘आपके पास स्कॉर्पियो है, बड़ा घर है तो आपको आरक्षण क्यों चाहिए?’ इसके जवाब में उन्होंने कहा था, ‘आरक्षण का मुख्य उद्देश्य समाज में भागीदारी से था। अभी भी दलितों के लिए खिलाफ समाज में अत्याचार जारी है। जब तक हमारे समाज का व्यक्ति ऊपर तक नहीं पहुंचेगा तो हमारे बारे में कौन सोचेगा। ऐसे लोगों से आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि जो आरक्षण को गाली देता है वो दलित समाज के लिए कोई भला करेगा।’

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट