ताज़ा खबर
 

बच्चों के डिप्रेशन घटाने में काफी मदद करती है म्यूजिक थेरेपी

स्टडी में शामिल बच्चों को दो समूहों में बांटा गया था। 128 को सामान्य चिकित्सा के विकल्प के तहत रखा गया था, अध्ययन में शामिल बच्चों को दो समूहों में बांटा गया था। 128 को सामान्य चिकित्सा के विकल्प के तहत रखा गया था, जबकि 123 को नॉर्मल ट्रीटमेंट के साथ म्यूजिक थेरेपी भी दी गई थी।
Author नई दिल्ली | November 7, 2016 11:39 am
बच्चों के डिप्रेशन में मददगार है म्यूजिक थेरेपी।

म्यूजिक थेरेपी के जरिए बच्चों और युवाओं की निराशा, व्यवहार संबंधी और भावात्मक समस्याओं में कमी लाई जा सकती है। यह जानकारी एक स्टडी में सामने आई है। शोधकर्ताओं ने 251 बच्चों और युवाओं को इस स्टडी में शामिल किया था। इनकी उम्र आठ से 16 साल के बीच थी। इनके डिप्रेशन को दूर करने के लिए म्यूजिक थेरेपी का सहारा लिया गया। जिन बच्चों को म्यूजिक थेरेपी दी गई, उनके कॉन्फिडेंस में काफी बढ़ोतरी हुई और उनकी उदासी काफी हद तक कम हुई। जिनका इलाज बिना म्यूजिक थेरेपी के किया गया, उनमें इतना अच्छा रिजल्ट देखने को नहीं मिला। यह स्टडी रिपोर्ट चाइल्ड साइकोलॉजी एंड साइकेट्री में प्रकाशित हुई है। इसमें पाया गया है कि 13 साल से ज्यादा उम्र के जिन युवाओं को संगीत चिकित्सा दी गई, उनके अभिव्यक्ति कौशल में काफी सुधार हुआ। खासकर उनकी तुलना में, जिन्हें नॉर्मल चिकित्सा मुहैया कराई गई और अकेले रहे। म्यूजिक थेरेपी से सभी आयुवर्ग के समूहों की सामाजिकता में भी सुधार आया है।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

स्टडी में शामिल बच्चों को दो समूहों में बांटा गया था। 128 को सामान्य चिकित्सा के विकल्प के तहत रखा गया था, अध्ययन में शामिल बच्चों को दो समूहों में बांटा गया था। 128 को सामान्य चिकित्सा के विकल्प के तहत रखा गया था, जबकि 123 को नॉर्मल ट्रीटमेंट के साथ म्यूजिक थेरेपी भी दी गई थी। इन सभी का भावात्मक, विकासात्मक और व्यवहार संबंधी समस्याओं का इलाज किया जा रहा था। ब्रिटेन के बोर्नमाउथ यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर सैम पोर्टर ने कहा, “यह अध्ययन बच्चों और किशोरों के व्यवहार संबंधी और मानसिक स्वास्थ्य की जरूरतों संबंधी प्रभावी इलाज का तरीका तय करने के बारे में बहुत महत्वपूर्ण है।”

स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने वालों को जब वे बच्चों और किशोरों का इलाज कर रहे होते हैं, तब उन्हें हमारी रिपोर्ट के निष्कर्षो पर विचार करना चाहिए कि वे किस तरह से उनकी सहायता करना चाहते हैं। एवरीडे हार्मोनी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी सिएरा रिली ने कहा, “संगीत चिकित्सा का अक्सर बच्चों और किशोरों पर खास मानसिक स्वास्थ्य की जरूरतों के हिसाब से इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह पहला अवसर है, जब एक चिकित्सा व्यवस्था के तहत इसके इलाज के लिए इसके प्रभाव को दिखाया गया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.