ताज़ा खबर
 

सीओ के लड़के ने दी मुलायम सिंह यादव के टीचर को धमकी तो रातों-रात हो गया था ट्रांसफर, दिलचस्प है किस्सा

स्कूल में मुलायम सिंह यादव के टीचर रहे उदय प्रताप सिंह ने एक किस्सा साझा किया है। उन्होंने बताया कि सीओ के लड़के ने एक बार धमकी दे दी थी, जिसके बाद मुलायम को इसकी खबर दी गई और सीओ का ट्रांसफर हो गया था।

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Photo-Indian Express)

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने स्कूल में पढ़ते हुए ही केंद्र की इंदिरा सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया था। मुलायम के टीचर उदय प्रताप सिंह याद करते हैं कि वह अपने स्कूल के दिनों में ही ‘नेताजी’ बन गए थे। उनके साथ के छात्र उन्हें नेताजी कहकर बुलाते थे। कई बार स्कूल में ये सुनने पर अजीब लगा तो उदय प्रताप सिंह ने इसके बारे में क्लास में पूछ लिया तो उन्हें छात्रों ने बताया कि मुलायम राम मनोहर लोहिया के आंदोलन के साथ जुड़ गए हैं इसलिए सभी छात्र उन्हें ‘नेताजी’ कहते हैं।

‘न्यूज़ नशा’ के साथ बात करते हुए उदय प्रताप सिंह ने उनसे जुड़ा एक और किस्सा सुनाया है। उदय प्रताप सिंह बताते हैं, ‘मैं जब नारायण कॉलेज का प्रिंसिपल था तो मैंने सीओ के लड़के को नकल करते हुए पकड़ लिया। उन्होंने मुझे धमकी दी कि मैं तुम्हें बाद में देख लूंगा। मैंने मुलायम को टेलीफोन कर दिया। मुलायम नहीं मिले तो मैंने प्रभाकर मिश्रा जो MLC थे उन्हें पूरी बात बताई। मैंने प्रभाकर मिश्रा से कहा कि मुलायम को बता देना कि एक सीओ हमसे ऐसे-ऐसे कह गए हैं।’

मुलायम सिंह यादव के कहने पर हुआ ट्रांसफर: उदय प्रताप सिंह आगे बताते हैं, ‘मैंने प्रभाकर को कहा कि ये सब तो ठीक नहीं है। अगर ऐसा ही रहेगा तो हमें ये सब छोड़ना पड़ेगा। मुलायम सिंह यादव ने इस बात को इतनी गंभीरता से लिया कि वह तत्कालीन मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह के पास चले गए। ये करीब सन् 1985-86 की बात है। मुलायम ने जोर देकर उन्हें इस बात को बताया और इसके बाद सीओ का तुरंत ‘तार’ से ट्रांसफर हुआ। रातों-रात दूसरे अधिकारी को इसका चार्ज दिया गया। एमएलसी प्रभाकर मिश्रा ने ये मुद्दा विधान परिषद में उठा दिया।’

उन्होंने आगे बताया, ‘मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए मुलायम सिंह यादव की दखलंदाजी से एक हाई लेवल कमेटी का गठन किया गया। शाम को 7 बजकर 20 मिनट पर न्यूज़ आती थी तो उसमें भी इस बात का जिक्र हुआ कि एक सीओ के लड़के को नकल करते हुए पकड़ा। मैं नकल के सख्त खिलाफ था और मैं नकल होने भी नहीं देता था। उसे मुलायम सिंह यादव ने गंभीरता से लिया। मुलायम सिंह लोहिया और महात्मा गांधी को बहुत मानते थे।’

Next Stories
1 कभी मोटापे के कारण होने लगे थे ट्रोल, फरदीन खान ने 6 महीने में ऐसे किया था 18 किलो वजन कम
2 कम या ज्यादा सोने से होता है वजन पर असर, जानें मोटापा कम करने के लिए कितनी देर सोना है जरूरी
3 प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर के लिए जरूरी है ये पोषक तत्व, जानिये कैसा होना चाहिए खानपान
ये पढ़ा क्या?
X