ताज़ा खबर
 

Mahavir Jayanti 2020: महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर थे… जानिए इनसे जुड़ी अन्य जरूरी बातें

Mahavir Jayanti 2020 Date and Day: जैन धर्म की मान्यताओं के अनुसार स्वामी महावीर का जन्म बिहार के कुंडलपुर के राज परिवार में हुआ था। बचपन में भगवान महावीर को वर्धमान नाम से पुकारा जाता था।

Mahavir Jayanti 2020: महावीर जी कौन थें, जानिए

Mahavir Jayanti 2020: महावीर जयंती जैन धर्म के सबसे प्रमुख पर्व के रूप में मनाया जाता है। लोग इसे बहुत धूमधाम से मनाते हैं। चैत्र शुक्ल त्रयोदशी में महावीर जयंती का पर्व स्वामी महावीर के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। स्वामी महावीर जैन धर्म के 24 वें और आखिरी तीर्थंकर थे। जैन धर्म के लोग महावीर जयंती को एक उत्सव के रूप में मनाते हैं। जैन धर्म की मान्यताओं के अनुसार स्वामी महावीर का जन्म बिहार के कुंडलपुर के राज परिवार में हुआ था। बचपन में भगवान महावीर को वर्धमान नाम से पुकारा जाता था।

भगवान महावीर कौन हैं? भगवान महावीर का जन्म हिंदू कैलेंडर के चैत्र माह के 13वें दिन बिहार के कुंडलपुर में राजा सिद्धार्थ और रानी त्रिशला के यहां हुआ था। जब वह 30 वर्ष के हो गए, तब भगवान महावीर ने अपना मुकुट त्याग दिया और 12 साल निर्वासन में तपस्या के रूप में सभी शब्द भोगों से दूर बिताए। उन्हें ऋषि वर्धमान भी कहा गया और उन्होंने अहिंसा का प्रचार भी किया। उन्हें अपनी इंद्रियों पर असाधारण नियंत्रण के लिए यह नाम मिला। सत्य और आध्यात्मिक स्वतंत्रता की तलाश में, उन्होंने 72वर्ष की आयु में आत्मज्ञान (निर्वाण) प्राप्त किया।

कैसे मनाई जाती महावीर जयंती: इस दिन, जैन धर्म के अनुयायी महावीर जी की मूर्ति को घर लाते हैं और इसे पारंपरिक रूप से अभिषेक के रूप में बुलाया जाता है। अनुयायियों द्वारा महावीर जी के जीवन पर झांकी दिखाने के लिए विशेष जुलूस निकाले जाते हैं। जैन मंदिर भगवान के भक्तों से भरे हुए होते हैं जो समृद्धि के लिए महावीर जी का आशीर्वाद चाहते हैं।

महावीर जयंती के दिन क्या करें:
– तपस्या बनाए रखें और पूरे दिन उपवास रखें।
– अपने पूजा घर को फूलों से सजाएं।
– जैन मंदिरों के दर्शन करें।
– महावीर जी की मूर्ति को विधिपूर्वक स्नान कराएं।
– महावीर जी की मूर्ति को दूध के साथ फूल, चावल और फल
चढ़ाएं।
– मंदिर के शीर्ष पर ध्वज को ठीक करें।
– भव्य जुलूस के लिए महावीर की मूर्ति तैयार करवाएं।
– महावीर जयंती की प्रार्थना करें।
– गरीबों को कपड़े, पैसा, खाना या कोई बुनियादी जरूरत की चीजें दान करें।
– आध्यात्मिक स्वतंत्रता, मूल मूल्यों और महावीर की नैतिकता के दर्शन का प्रचार करें।
– महावीर जयंती के शुभ दिन खीर तैयार करें और परोसें।

Next Stories
1 वेट लॉस के लिए जरूरी है गुड नाइट स्लीप, जानिये कैसे है वजन घटाने में फायदेमंद
2 Mahavir Jayanti 2020 Date: 6 अप्रैल को है महावीर जयंती, जानिए क्या है इसका इतिहास और महत्व
3 Ramayan में राम की भूमिका ने दिलाई अरुण गोविल को शोहरत, लेकिन एक्टिंग करियर पर लग गया ब्रेक, जानिये- अब कैसी है लाइफस्टाइल
ये पढ़ा क्या?
X