ताज़ा खबर
 

शारीरिक संबंध बनाने के बाद महिलाएं कभी न करें ये तीन काम, संक्रमण का बढ़ जाता है खतरा

संबंध बनाने के दौरान बैक्टीरिया मूत्राशय में धकेल दिए जाते हैं जिससे बाद में मूत्राशय में संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है।

प्रतीकात्मक चित्र

हमारे स्वास्थ्य को लेकर तमाम विशेषज्ञ नियमित शोध में लगे रहते हैं। इन शोधों से वह हमारे लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आते हैं जो हमारे बेहतर स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी होते हैं। इन अध्ययनों से ही हमें यह पता चलता है कि क्या करना हमारी सेहत के अनुकूल है और क्या करना सेहत के विपरीत है। ऐसी ही एक रिपोर्ट में विशेषज्ञों ने शारीरिक संबंध बनाने के बाद बहुत से लोगों द्वारा की जाने वाली स्वास्थ्य के प्रतिकूल एक्टिविटीज पर ध्यान आकृष्ट कराया है। विशेषज्ञों के मुताबिक शारीरिक संबंध बनाने के बाद महिलाओं को अपने निजी अंगों की सेहत को ठीक रखने के लिए कुछ काम नहीं ही करना चाहिए। ‘वुमेन्स हेल्थ’ को बताते हुए एक विशेषज्ञ ने तीन तरह के कामों को महिलाओं की सेहत को ध्यान में रखकर प्रतिबंधित किया है।

साबुन का इस्तेमाल – बहुत सी महिलाएं संबंध बनाने के बाद साफ-सफाई को लेकर बेहद सतर्क रहती हैं। ऐसे में उन्हें इस बात का विशेष ध्यान देना है कि वेजिना की सफाई के वक्त साबुन का इस्तेमाल कभी न करें। विशेषज्ञ बताते हैं कि साबुन आदि में मौजूद केमिकल्स वेजिनल इर्रिटेशन और ड्राइनेस जैसी समस्या दे सकते हैं। वेजिना अपने आप को स्वतः साफ रखने वाला और संवेदनशील अंग है। ऐसे में जिस तरह से साबुन को आप मुंह में नहीं डाल सकतीं वैसे ही इसका इस्तेमाल वेजिना की सफाई के लिए भी नहीं करना चाहिए।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25900 MRP ₹ 29500 -12%
    ₹3750 Cashback
  • Apple iPhone 7 128 GB Jet Black
    ₹ 52190 MRP ₹ 65200 -20%
    ₹1000 Cashback

बाथरूम न जाना – संबंध बनाने के दौरान बैक्टीरिया मूत्राशय में धकेल दिए जाते हैं जिससे बाद में मूत्राशय में संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। इस समस्या से बचने के लिए सेक्स के तुरंत बाद बाथरूम जाना नहीं भूलना चाहिए। इससे मूत्राशय में मौजूद बैक्टीरिया यूरीन के साथ बाहर आ जाते हैं और आप संक्रमण से बच जाती हैं।

रेयॉन या फिर पॉलिएस्टर के अंतःवस्त्र पहनकर सोना – ज्यादातर अंतःवस्त्र रेयॉन या फिर पॉलिएस्टर के बने होते हैं। ऐसे में संबध बनाने के बाद शरीर की गर्मी और नमी इनकी वजह से अंदर ही ट्रैप हो जाती है और बाहर नहीं आती, जो बाद में यीस्ट इन्फेक्शन का कारण बनती है। ऐसे में साफ कॉटन के अंतःवस्त्र पहनना सही होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App