ताज़ा खबर
 

पहली नजर में प्यार होने के पीछे क्या है सच्चाई, रिसर्च में सामने आया जवाब

नीदरलैंड की एक यूनिवर्सिटी द्वारा कराए गए एक रिसर्च में यह पाया गया है कि पहली नजर में प्यार होने की संभावनाएं 46 प्रतिशत तक हो सकती हैं।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

पहली मोहब्बत हर किसी के लिए खास होती है। प्यार चाहे सफल हो या न हो, हर किसी के दिल में उसकी याद हमेशा जिंदा रहती है। प्यार-मोहब्बत को लेकर एक सवाल जो हर किसी के मन में उठता है वो ये है कि क्या लव एट फर्स्ट साइट के पीछे सच्चाई है? मतलब यह कि क्या पहली नजर में प्यार हो सकता है? इस विषय को लेकर एक रिसर्च किया गया है, जिसके परिणाम बड़े दिलचस्प हैं। आइए जानते हैं कि इस रिसर्च के निष्कर्ष में क्या सामने आया है।

नीदरलैंड की एक यूनिवर्सिटी द्वारा कराए गए एक रिसर्च में यह पाया गया है कि पहली नजर में प्यार होने की संभावनाएं 46 प्रतिशत तक हो सकती हैं। सर्वे के मुताबिक उम्र बढ़ने के साथ-साथ पहली नजर में प्यार होने की संभावनाएं भी बढ़ती जाती हैं। सर्वे में 18-25 साल के बीच लोगों में लव ऐट फर्स्ट साइट के सबसे ज्यादा मामले देखे गए। रिसर्च में 18-25 साल के तकरीबन 396 लोगों को शामिल किया गया था जिनमें तकरीबन 60 प्रतिशत महिलाएं थीं। शोध में शामिल प्रतिभागियों को आकर्षक लोगों की तस्वीरें दिखाई गईं जिनमें से ज्यादातर लोगों ने पहली नजर में अपने परफेक्ट मैच डिसाइड कर लिया।

रिसर्चर्स ने बाद में सभी प्रतिभागियों की प्रतिक्रियाएं नोट कीं। जिसके बाद उन्होंने पाया कि जिन लड़कों या लड़कियों को पहली नजर में प्यार हुआ था वो सिर्फ एक शारीरिक आकर्षण भर था। ऑनलाइन हुए इस सर्वे की मदद से उनके रिलेशनशिप के बारे में कुछ सवाल किए गए थे। इस शोध के दौरान उन्हें कई अजनबी लोगों की तस्वीरें दिखाई गई। जिसके बाद उनसे उनके प्रति आकर्षण को प्यार, इंटिमेसी, पैशन, कमिटमेंट और सेक्शुअल अट्रैक्शन में रेटिंग देने के लिए कहा गया था। इस शोध में उनसे ये भी पूछा गया कि क्या उनको पहली बार में प्यार हुआ है? शोध में हिस्सा लेने वाले लोगों ने एक-दूसरे के साथ 20 से 90 मिनट का समय बिताया था। इसके बाद उनसे पार्टनर के बारे में फीलिंग्स पूछी गई थी। शोध के बाद सामने आए नतीजों को जानकर कई लोगों को हैरानी हुई कि असल में वो पहली नजर का प्यार नहीं बल्कि शारीरिक आकर्षण था।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.