scorecardresearch

पक्‍का में पैदा हुई है, म‍िट्टी घर में कैसे रहेगी- लालू से राबड़ी की शादी पर चाचा ने प‍िता से कर ली थी लड़ाई

राबड़ी देवी से शादी के बाद लालू प्रसाद यादव को जेल जाना पड़ा था क्योंकि वह इस दौरान जेपी आंदोलन में काफी सक्रिय थे। राबड़ी ने बताया था कि उनके चाचा इस शादी को लेकर पिता से लड़ भी पड़े थे। जानिए क्या थी वजह-

पक्‍का में पैदा हुई है, म‍िट्टी घर में कैसे रहेगी- लालू से राबड़ी की शादी पर चाचा ने प‍िता से कर ली थी लड़ाई
राबड़ी देवी के साथ लालू प्रसाद यादव (Photo- Indian Express)

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की राबड़ी देवी से शादी 1 जून 1973 को हुई थी। लालू की शादी बहुत कम उम्र में हो गई थी। ऐसे में तीन साल के गौना के बाद राबड़ी देवी दोबारा लालू के घर पहुंचीं तो लालू को जेल जाना पड़ा था क्योंकि वह जेपी आंदोलन में काफी सक्रिय थे। राबड़ी ने शादी के बाद का एक किस्सा टीवी शो ‘जीना इसी का नाम है’ में साझा किया था।

शो के होस्ट फारूक शेख ने पूछा था, ‘जब आप लालू यादव के घर आईं पहली बार तो इन्होंने आपको कहा कि मैं जेल की सैर करके आता हूं।’ राबड़ी देवी ने कहा था, ‘जो एक महिला पर गुजरती है वही मेरे साथ भी गुजरी थी।’

चाचा हो गए थे नाराज़: राबड़ी देवी बताती हैं, ‘हमारे बाबूजी आपको (लालू प्रसाद यादव) देखने आए थे और आप पसंद आ गए थे। हमारे चाचा ने पूछा तो बाबू जी ने बताया कि लड़का ठीक है, लेकिन मिट्टी का घर है। चाचा ने कहा कि मिट्टी के घर में बेटी कैसे रहेगी? उन्होंने हमारे बाबू जी से लड़ाई कर ली। आपको जानकारी होगी कि हमारी शादी कितने संकट से हुई थी?’

फारूक शेख कहते हैं, ‘आपके चाचा खासतौर से कहते थे कि ये क्या कर दिया? हमारी बेटी पक्के घर में पैदा हुई है और ये कच्चे घर में कैसे रहेगी? उन्होंने बाद में आपसे आकर कहा कि हमने कहा ही था मत करो? अब खुद भी साथ नहीं हैं और खुद चले गए सरकारी घर में।’

राबड़ी देवी ने इसके जवाब में कहा था, ‘नहीं, बाद में आंदोलन इन्होंने शुरू किया तो हमने कहा कि देश के लिए जेल में गए हैं कोई परिवार या घर के लिए तो जेल नहीं गए हैं। फिर इससे हमें शक्ति भी मिली थी।’

जेल पहुंच जाते थे लालू यादव के ससुर: लालू प्रसाद यादव जेल से ही राबड़ी देवी के लिए चिट्ठी भी भेजा करते थे। राबड़ी ने बताया था, ‘हमारे घर में जो भैंस का दूध निकालता था उसी के हाथ जेल से हमारे लिए छोटी-सी चिट्ठी लिखकर भेजा करते थे।’ इतने में लालू उन्हें रोकते हुए कहते हैं, ‘बात ऐसी नहीं है कि हम सिर्फ चिट्ठी ही भेजा करते थे, राबड़ी तो खुद जेल में पहुंच जाया करती थी।’

इसी शो में लालू प्रसाद यादव के ससुर शिव प्रसाद चौधरी भी पहुंचे थे। उन्होंने बताया था, ‘हमें कई लोगों ने कहा था कि लड़के के पास जमीन कम है तो हमने कहा था कि लड़के से शादी होती है कोई जमीन से थोड़े शादी होती है। बाद में हमने इन्हें जमीन भी दी थी। हमने रुपए-पैसे भी दिए शादी में, विदाई में। सोना दिया और दो गाय भी दी थीं। जेल में तो हम खुद लालू यादव के पीछे पहुंच जाते थे और इनके लिए फल और पैसा वगैरह सब पहुंचाते थे।’

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.